अमूमन लोग एक दूसरे से पैसा ही उधार मांगते हैं, लेकिन आज हम आपको उन चीजों के बारे में बताएंगे जो किसी को भी उधार नहीं देना चाहिए। अगर आप भी दूसरों की इन चीजों का मांगकर इस्तेमाल करते हैं, तो इस आदत को तुरंत बदल लीजिए। यह आपके लिए मुसीबत और बदकिस्मती की वजह बन सकते हैं। शास्त्रों, धर्म-पुराणों में कुछ काम करने के लिए सख्त रूप से मनाही है, साथ ही इन चीजों का दान भी व्यक्ति को राजा से रंक बना देता है। अगर इन चीजों का दान किया तो घर में दरिद्रता का वास होता है और उनकी नकारात्मक ऊर्जा आप तक पहुंच जाती है। इसलिए इनके प्रयोग से बचने की सलाह दी गई है।

घड़ी
घड़ी का काम समय बताना है। आपका अच्छा या बुरा समय आपकी परिस्थिति तय करती है। कभी किसी दूसरे व्यक्ति को अपनी घड़ी नहीं पहनना चाहिए। चूंकि घड़ी को व्यक्ति के जीवन के समय से जोड़कर देखा जाता है। ऐसे में किसी और की घड़ी को अपनी कलाई पर बांधने से आपकी प्रोफेशनल लाइफ में प्रॉब्लम आ सकती है। यदि आप अपनी घड़ी किसी को उधार देते हैं तो ये आपके लिए नुकसानदायक हो सकता है।

अंगूठी
अपने संपूर्ण जीवन में आपको कभी भी किसी दूसरे की अंगूठी न पहननी चाहिए और न ही लेनी चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपके जीवन में न केवल मुश्किलें अपितु आप आर्थिक संकट के जाल में भी फंस सकते है। शास्त्रों में अंगुलियों के अंगूठी वाले स्थान से हमारे जीवन और सेहत का मामला जुड़ा है, इसलिए अंगूठी को लेकर आपको सतर्क रहना चाहिए।

कपड़े
किसी दूसरे के कपड़े पहने से आपका भाग्य आपसे नाराज हो जाता है और दुर्भाग्य आपको चारों तरफ से घेर लेता है। ऐसे में किसी के पहने कपड़ों को पहनने से हमेशा बचना चाहिए। सेहत के लिहाज से भी यह अनुचित है क्योंकि इससे कीटाणु प्रवेश कर सकते हैं। त्वचा का संक्रमण हो सकता है।

पैसे उधार देना
शास्त्रों में धन को मनुष्य का सबसे बड़ा शत्रु बताया गया है क्योंकि यह मनुष्य के भीतर लालच का भाव उत्पन्न करता है। खासतौर से रिश्तेदारों में धन का लेन-देन कतई नहीं करना चाहिए क्योंकि उधार प्रेम की कैंची होती है। धन के कारण ही आपसी प्रेम खत्म हो जाता है। कई घरों में धन ही मुख्य मुसीबत की जड़ मानी जाती है। भाई-भाई में झगड़ा, दोस्ती, रिश्ते नातेदारी में क्लेश इसी धन के कारण ही होते हैं।

कंघा
किसी दूसरे का कंघा इस्तेमाल करना सेहत और शास्त्र दोनों के लिहाज से हितकारी नही है। ना सिर्फ कंघे बल्कि सिर से संबंधित सभी सामग्री को कभी भी दूसरे से साझा नही करना चाहिए। इससे आपके भाग्य पर विपरीत असर पड़ सकता है।

पेन
शास्त्रों में कहा गया है कि हमारे कर्मों को यमराज के यहां चित्रगुप्त लिखते है। पुराणों में ऐसा माना गया है कि चित्रगुप्त अपनी लेखनी से हमारे जीवन में आगे आने वाली परेशानियों या खुशियों का खाका तैयार कर रहे होते हैं। जीवन में कलम को बड़ा महत्व दिया गया है। वेदों में कहा गया है कि अपने कलम को किसी के साथ बांटना या फिर किसी से कलम उधार लेना आर्थिक परेशानियों को न्योता देने जैसा है।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply