गाँधी तुम चाहते तो लालकिले
पर भगवा फहरा सकते थे,
तुम चाहते तो तिब्बत पर भी
झंडा लहरा सकते थे।
तुम चाहते तो जिन्ना को
चरणों में झुकवा सकते थे,
तुम चाहते तो भारत का
बंटवारा रुकवा सकते थे.!
तुम चाहते तो अंग्रेजोँ का
मस्तक झुकवा सकते थे,
तुम चाहते तो भगतसिंह की
फाँसी रुकवा सकते थे।
इंतजार ना होता इतना
तभी कमल खिलना तय था,
सैंतालिस में ही भारत माँ को
पटेल मिलना तय था.!.
लेकिन तुम तो अहंकार के
घोर नशे में झूल गए,
गांधीनीति याद रही
भारत_माता को भूल गए।
सावरकर से वीरोँ पर भी
अपना नियम जता डाला,
गुरु_गोविन्द सिंह और प्रताप
को भटका हुआ बता डाला,
भारत के बेटोँ पर अपने
नियम थोप कर चले गए,
बोस पटेलों की पीठो में
छुरा घोप कर चले गए।
तुमने पाक बनाया था वो
अब तक कफ़न तौलता है,
बापू तुमको बापू कहने
तक में खून खौलता है.!.
साबरमती के वासी सोमनाथ
में गजनी आया था,
जितना पानी नहीं बहा
उतना तो खून बहाया था।
सारी धरती लाल पड़ी थी
इतना हुआ अँधेरा था,
चीख चीख कर बोलूंगा मैं,
गजनी एक लूटेरा था.!.
सबक यहीं से ले लेते तो
घोर घटाए ना छाती,
भगतसिंह फाँसी पर लटके
ऐसी नौबत ना आती।
अंग्रेजो से लोहा लेकर
लड़ना हमें सीखा देते,
कसम राम की बिस्मिल
उनकी ईंट से ईंट बजा देते.
अगर भेड़िया झपटे तो
तलवार उठानी पड़ती है,
उसका गला काटकर अपनी
जान बचानी पड़ती है।
छोड़ अहिंसा कभी-कभी
हिंसा को लाना पड़ता है,
त्याग के बंसी श्री कृष्ण को
चक्र उठाना पड़ता है.!

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply