नाग शब्द संस्कृत और पालि का शब्द है जो भारतीय धर्मों में महान सर्प का द्योतक है (विशेषतः नागराज)। दिव्य, अर्ध-दिव्य देवता, या अर्ध-दिव्य देवता हैं; अर्ध-मानव आधे नागों की जाति जो कि नागलोक ( पाताल ) में निवास करती है और कभी-कभी मानव रूप ले सकती है। उन्हें मुख्य रूप से तीन रूपों में दर्शाया गया है: पूरी तरह से मनुष्यों के सिर और गर्दन पर सांपों के साथ; सामान्य नाग या आधे मानव आधे-सर्प प्राणियों के रूप में। एक महिला नाग एक “नागिन”, या “नागिनी” है। नागराज को नागों और नागिनों के राजा के रूप में देखा जाता है। वे दक्षिण एशियाई और दक्षिण पूर्व एशियाई संस्कृतियों की पौराणिक परंपराओं में सांस्कृतिक महत्व रखते हैं।नागों की पूजा करने व उनका मंत्र स्तोत्र आदि के जप से घर में सुख,समृद्धि,वैभव आदि की प्राप्ति तथा दीर्घायु की प्राप्ति होती है उस घर में कभी भी सर्प भय नहीं रहता कालसर्प दोष में नाग के नामों से हवन किया जाता है अतः यहाँ नागराज अष्टोत्तरशतनामावलिः दिया जा रहा है।

श्रीनागराजाष्टोत्तर शतनामावलिः

नागराज अष्टोत्तरशतनामावलिः

नमस्करोमि देवेश नागेन्द्र हरभूषण ।

अभीष्टदायिने तुभ्यं अहिराज नमो नमः ॥
॥अथ नागराज अष्टोत्तरशतनामावलिः॥

ॐ अनन्ताय नमः । ॐ वासुदेवाख्याय नमः । ॐ तक्षकाय नमः ।

ॐ विश्वतोमुखाय नमः । ॐ कार्कोटकाय नमः । ॐ महापद्माय नमः ।

ॐ पद्माय नमः । ॐ शङ्खाय नमः । ॐ शिवप्रियाय नमः ।

ॐ धृतराष्ट्राय नमः । ॐ शङ्खपालाय नमः । ॐ गुलिकाय नमः ।

ॐ इष्टदायिने नमः । ॐ नागराजाय नमः । ॐ पुराणपुरूषाय नमः ।

ॐ अनघाय नमः । ॐ विश्वरूपाय नमः । ॐ महीधारिणे नमः ।

ॐ कामदायिने नमः । ॐ सुरार्चिताय नमः । ॐ कुन्दप्रभाय नमः ।

ॐ बहुशिरसे नमः । ॐ दक्षाय नमः । ॐ दामोदराय नमः ।

ॐ अक्षराय नमः । ॐ गणाधिपाय नमः । ॐ महासेनाय नमः ।

ॐ पुण्यमूर्तये नमः । ॐ गणप्रियाय नमः । ॐ वरप्रदाय नमः ।

ॐ वायुभक्षाय नमः । ॐ विश्वधारिणे नमः । ॐ विहङ्गमाय नमः ।

ॐ पुत्रप्रदाय नमः । ॐ पुण्यरूपाय नमः । ॐ पन्नगेशाय नमः ।

ॐ बिलेशयाय नमः । ॐ परमेष्ठिने नमः । ॐ पशुपतये नमः ।

ॐ पवनाशिने नमः । ॐ बलप्रदाय नमः । ॐ दैत्यहन्त्रे नमः ।

ॐ दयारूपाय नमः । ॐ धनप्रदाय नमः । ॐ मतिदायिने नमः ।

ॐ महामायिने नमः । ॐ मधुवैरिणे नमः । ॐ महोरगाय नमः ।

ॐ भुजगेशाय नमः । ॐ भूमरूपाय नमः । ॐ भीमकायाय नमः ।

ॐ भयापहृते नमः । ॐ शुक्लरूपाय नमः । ॐ शुद्धदेहाय नमः ।

ॐ शोकहारिणे नमः । ॐ शुभप्रदाय नमः । ॐ सन्तानदायिने नमः ।

ॐ सर्पेशाय नमः । ॐ सर्वदायिने नमः । ॐ सरीसृपाय नमः ।

ॐ लक्ष्मीकराय नमः । ॐ लाभदायिने नमः । ॐ ललिताय नमः ।

ॐ लक्ष्मणाकृतये नमः । ॐ दयाराशये नमः । ॐ दाशरथये नमः ।

ॐ दमाश्रयाय नमः । ॐ रम्यरूपाय नमः । ॐ रामभक्ताय नमः ।

ॐ रणधीराय नमः । ॐ रतिप्रदाय नमः । ॐ सौमित्रये नमः ।

ॐ सोमसङ्काशाय नमः । ॐ सर्पराजाय नमः । ॐ सताम्प्रियाय नमः ।

ॐ कर्बुराय नमः । ॐ काम्यफलदाय नमः । ॐ किरीटिने नमः ।

ॐ किन्नरार्चिताय नमः । ॐ पातालवासिने नमः । ॐ परमाय नमः ।

ॐ फणामण्डलमण्डिताय नमः । ॐ बाहुलेयाय नमः । ॐ भक्तनिधये नमः ।

ॐ भूमिधारिणे नमः । ॐ भवप्रियाय नमः । ॐ नारायणाय नमः ।

ॐ नानारूपाय नमः । ॐ नतप्रियाय नमः । ॐ काकोदराय नमः ।

ॐ काम्यरूपाय नमः । ॐ कल्याणाय नमः । ॐ कामितार्थदाय नमः ।

ॐ हतासुराय नमः । ॐ हल्यहीनाय नमः । ॐ हर्षदाय नमः ।

ॐ हरभूषणाय नमः । ॐ जगदादये नमः । ॐ जराहीनाय नमः ।

ॐ जातिशून्याय नमः । ॐ जगन्मयाय नमः । ॐ वन्ध्यात्वदोषशमनाय नमः ।

ॐ वरपुत्रफलप्रदाय नमः । ॐ बलभद्ररूपाय नमः । ॐ श्रीकृष्णपूर्वजाय नमः ।

ॐ विष्णुतल्पाय नमः । ॐ बल्वलध्नाय नमः । ॐ भूधराय नमः ।

इति श्री नागराजाष्टोत्तरशतनामावलिः सम्पूर्णा ।

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply