महाकाल मङ्गलम्- भगवान शंकर के अनेकों नाम है। भक्त भिन्न-भिन्न नामों से इनका गुणगान करते हैं, कोई महादेव तो कोई भोलेनाथ, कोई अघोरी तो कोई शंभु। भोलेनाथ के अलग-अलग रूपों के कारण ही उनके इतने नाम हैं। इन्हें तंत्र साधना का जनक भी कहा जाता है, इसलिए कोई भी तंत्र साधना उनके बिना पूरी नहीं होती। जो व्यक्ति सच्ची श्रद्धा से इनकी अराधना करता है, उसके जीवन से बड़े-बड़े कष्ट दूर हो जाते हैं। भगवान शिव का एक स्वरूप महाकाल का भी है, यानि वे मृत्यु को भी अपने वश में रखते हैं ।

‘अकाल मृत्यु वो मरे जो काम करे चांडाल का,

काल उसका क्या करे जो भक्त हो महाकाल का’

महाकाल मंत्र-

॥ हूं हूं महाकाल प्रसीद प्रसीद ह्रीं ह्रीं स्वाहा ॥

श्रीमहाकालमङ्गलम्

ॐ श्रीगणेशाय नमः ।

यो लोकेशादि विश्वं जनयति सकलं यश्चतुर्वर्गबीजं

सद्भक्तेच्छानुरूपं वितरति कृपया वेदवेद्यस्वरूपम् ।

ज्योतिःशास्त्राधिदेवं स्थितिकरणभयुग्वासरार्कादिमूर्ति –

स्तं वन्दे स्कन्दगौरीगणपतिसहितं श्रीमहाकालमीशम् ॥ १॥

स्तष्टारोऽपि प्रजानां प्रबलभवभयाद्यं नमस्यन्ति देवा

यो ह्यव्यक्तो प्रविष्टः प्रविहितमनसां ध्यानयुक्तात्मनां च ।

बिभ्राणः सोमलेखामहिवलययुतं व्यक्तलिङ्गं कपालं

लोकानामदिदेवः स जयतु भगवान् श्रीमहाकलनामा ॥ २॥

क्रीडाकुण्डलितोरगेश्वरतनूकारादिरूठम्भरा-

ऽनुस्वारं कलयन्नकाररुचिराकारः कृपार्द्रः प्रभुः।

विष्णोर्विश्वतनोरवन्तिनगरीहृत्पुण्डरीके वस-

न्नोङ्काराक्षरमूर्तिरस्यतु सदा कालोऽन्तकालोऽसताम् ॥ ३॥

भर्तुः कण्ठच्छविरिति गणैः सादरं वीक्ष्यमाणः

पुण्यं यायास्त्रिभुवनगुरोर्धाम चण्डीश्वरस्य ।

धृतोद्यानं कुवलयरजोगन्धिभिर्गन्धवत्या-

स्तोयक्रीडानिरतयुवतिस्नानसिक्तैर्मरुद्भिः ॥ ४॥

अप्यस्मिञ्जलधर ! महाकालमासाद्य कले

स्थातव्यं ते नयनविषयं यावदत्येति भानुः ।

कुर्वन् सन्ध्याबलिपटहतां शूलिनः श्लाघनीया-

मामन्त्राणां फलमविकलं लप्स्यसे गर्जितानाम् ॥ ५॥

इति श्रीमहाकालमङ्गलं स्तोत्रं सम्पूर्णम् ।

 

महाकाल मङ्गलम् धुन

ॐ नमः शिवाय..४

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

रूप मंगलम, शिव श्रृंगार मंगलम..२

भसमांग धारी का, परिवार मंगलम..२

रूप मंगलम, शिव श्रृंगार मंगलम..२

भसमांग धारी का, परिवार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम.. ..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

पर्वत कैलास का, आधार मंगलम..२

शम्भू महा शक्ति हैं, साकार मंगलम..२

पर्वत कैलाश का, आधार मंगलम..२

शम्भू महा शक्ति हैं, साकार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

ॐ नमः शिवाय..२

जटा मंगलम, गंगाधार मंगलम..२

चन्द्र मंगलम, चंद्रकार मंगलम..२

जटा मंगलम, गंगाधार मंगलम..२

चन्द्र मंगलम, चंद्रकार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

तीन नैन धारी हैं, त्रिकाल मंगलम..२

नीलकंठ धारी, महाकाल मंगलम..२

तीन नैन धारी हैं, त्रिकाल मंगलम..२

नीलकंठ धारी, महाकाल मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

कंठ मुंड माल सर्पहार मंगलम..२

काली संग काल, प्रलयंकार मंगलम..२

कंठ मुंड माल सर्पहार मंगलम..२

काली संग काल, प्रलयंकार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

रूद्र मंगलम, रुद्राक्ष मंगलम..२

चतुर्भुजी शंभू के शुभ हाथ मंगलम..२

रूद्र मंगलम, रुद्राक्ष मंगलम..२

चतुर्भुजी शंभू के शुभ हाथ मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

ॐ नमः शिवाय..२

त्रिशूल मंगलम, डमरू वाध्य मंगलम..२

है अंत मंगलम, मद्य आध्य मंगलम..२

त्रिशूल मंगलम, डमरू वाध्य मंगलम..२

है अंत मंगलम, मद्य आध्य मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

दिव्य अंग वस्त्र, ब्रह्मचर्य मंगलम..२

शंभू महादेव के हैं, मर्म मंगलम..२

दिव्य अंग वस्त्र, ब्रह्मचर्य मंगलम..२

शंभू महादेव के हैं, मर्म मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

दिव्य देव के, दोनों चरण मंगलम..२

प्रभु अविनाशी के, पद त्रान मंगलम..२

दिव्य देव के, दोनों चरण मंगलम..२

प्रभु अविनाशी के, पद त्रान मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

है बाम अंग पार्वती देवी मंगलम..२

चरणों में शिव गण हैं, सारे सेवी मंगलम..२

है बाम अंग पार्वती देवी मंगलम..२

चरणों में शिव गण हैं, सारे सेवी मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

पुत्र कार्तिकेय, श्री प्रथमेश मंगलम..२

देवों के देव हैं, गणेश मंगलम..२

पुत्र कार्तिकेय, श्री प्रथमेश मंगलम..२

देवों के देव हैं, गणेश मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम..२

सोमवार मंगलम

द्वादस ज्योतिर्लिंग हैं, शिवनाथ मंगलम..२

सोमेश्वर नाथ, विश्वनाथ मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम

सोमवार मंगलम

रामेश्वर शंभू हैं, केदार मंगलम..२

खुस्मेश्वर धीमा, ओमकार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम

सोमवार मंगलम

मल्लिकार्जुन नागेश्वर नाथ मंगलम..२

महाकालेश्वर, वैद्यनाथ मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम

सोमवार मंगलम

त्रिंबकेश्वर शिव, संसार मंगलम..२

कण-कण में शंभू, निराकार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम

सोमवार मंगलम

ॐ नमः शिवाय का, उच्चार मंगलम..२

महामंत्र महिमा, अपार मंगलम..२

मुक्ति मुक्ति दाता, शिव द्वार मंगलम..२

नमः नमंद नासे, भवपार मंगलम..२

ॐ मंगलम, ओमकार मंगलम..४

शिव मंगलम, सोमवार मंगलम

सोमवार मंगलम

महाकाल मङ्गलम्

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply