अरे साधक साधना कर
प्रबल झंझा के थपेड़ों से निरंतर तू लड़े जा
यदि न देता साथ कोई तू अकेला ही बढ़े जा
आज अपने पंथ का बस तू स्वयं निर्माण करना
क्यों पतन की ओर जाता सीख ले उत्थान कर
लक्ष्य तेरे पास हो या दूर बस तू साधना कर
अरे साधक साधना कर

चूमता था चरण वैभव भूलता है आज क्यों तू
मुग्ध नव जग-कल्पना में भलता है आज क्यों तू
ज्ञान हमने ही दिया था ज्ञान का भण्डार भारत
आज के इस विश्व का भी है अमर आधार भारत
आज भी सामर्थ्य तुझमें मत किसी से याचना कर।
अरे साधक साधना कर

राष्ट्र ही सर्वस्व तेरे राष्ट्र ही है प्राण तेरा
आज तिज तिल-तिल मिटाकर राष्ट्र का निर्माण कर तू
भग्न वीणा के स्वरों में आज मीठी तान भर तू
राष्ट्र मन्दिर के पुजारी राष्ट्र की आराधना कर
अरे साधक साधना कर

are sādhaka sādhanā kara

prabala jhaṁjhā ke thapeṛoṁ se niraṁtara tū laṛe jā
yadi na detā sātha koī tū akelā hī baṛhe jā
āja apane paṁtha kā basa tū svayaṁ nirmāṇa karanā
kyoṁ patana kī ora jātā sīkha le utthāna kara
lakṣya tere pāsa ho yā dūra basa tū sādhanāa kara
are sādhaka sādhanā kara

cūmatā thā caraṇa vaibhava bhūlatā hai āja kyoṁ tū
mugdha nava jaga-kalpanā meṁ bhalatā hai āja kyoṁ tū
jñāna hamane hī diyā thā jñāna kā bhaṇḍāra bhārata
āja ke isa viśva kā bhī hai amara ādhāra bhārata
āja bhī sāmarthya tujhameṁ mata kisī se yācanā kara |
are sādhaka sādhanā kara

rāṣṭra hī sarvasva teree rāṣṭra hī hai prāṇa terā
āja tija tila-tila miṭākara rāṣṭra kā nirmāṇa kara tū
bhagna vīṇā ke svaroṁ meṁ āja mīṭhī tāna bhara tū
rāṣṭra mandira ke pujārī rāṣṭra kī ārādhanā kara
are sādhaka sādhanā kara

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply