भारत माँ के चरण कमल पर तन मन धन कर दे नौछावर
साधक आज प्रतिज्ञा कर ले जननी के इस संकट क्षण पर ॥धृ॥

रुदन कर रहा आज हिमालय सिसक रही गंगा की धारा
दग मग है कैलास शंभु का व्यथित आज बद्रिश्वर प्यारा
उधर सुलगती वन्हि शिखा लख भयकम्पित निज नन्दनवन है
अमरनाथ के पावन मंदिर पर अरियोंका कृद्ध नयन है
निज माता की लाज बचाने हम सब आज बने प्रलयंकर ॥१॥

मातृभूमी का कंकर कंकर आज महा शंकर बन जाये
थिरक उठे ताण्डव की गती फिर विश्व पुनः कम्पित हो जाये
खुले तीसरा नेत्र तेज से अरी दल सारा भस्मसात हो
चमके त्रिशूल पुनः करों में अरी षोणित से तप्तपात हो
जय के नारे गून्जे नभ में जले विजय का दीप घर घर ॥२॥

राणा के उस भीषण प्रण को आज पुनः हम सब दोहराए
त्यज देंगे सारा सुख वैभव जब तक माँ का कष्ट न जाए
क्या होगा माता के कारण अगर राष्ट्र के लिये मरेंगे
भूमी शयन घांसों की रोटी खाकर भी सब व्यथा हरेंगे
निश्चित होगी विजय सत्य की दुष्मन काँपेंगे थर थर थर ॥३॥

English Transliteration:
bhārata mā ke caraṇa kamala para tana mana dhana kara de nauchāvara
sādhaka āja pratijñā kara le jananī ke isa saṁkaṭa kṣaṇa para ||dhṛ||

rudana kara rahā āja himālaya sisaka rahī gaṁgā kī dhārā
daga maga hai kailāsa śaṁbhu kā vyathita āja badriśvara pyārā
udhara sulagatī vanhi śikhā lakha bhayakampita nija nandanavana hai
amaranātha ke pāvana maṁdira para ariyoṁkā kṛddha nayana hai
nija mātā kī lāja bacāne hama saba āja bane pralayaṁkara ||1||

mātṛbhūmī kā kaṁkara kaṁkara āja mahā śaṁkara bana jāye
thiraka uṭhe tāṇḍava kī gatī phira viśva punaḥ kampita ho jāye
khule tīsarā netra teja se arī dala sārā bhasmasāta ho
camake triśūla punaḥ karoṁ meṁ arī ṣoṇita se taptapāta ho
jaya ke nāre gūnje nabha meṁ jale vijaya kā dīpa ghara ghara ||2||

rāṇā ke usa bhīṣaṇa praṇa ko āja punaḥ hama saba doharāe
tyaja deṁge sārā sukha vaibhava jaba taka mā kā kaṣṭa na jāe
kyā hogā mātā ke kāraṇa agara rāṣṭra ke liye mareṁge
bhūmī śayana ghāṁsoṁ kī roṭī khākara bhī saba vyathā hareṁge
niścita hogī vijaya satya kī duṣmana kāpeṁge thara thara thara ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply