ध्येय पथ पर बढ़ रहे हैं एक ही विश्वास लेकर
एक ही आधार लेकर

शैल से जो सिन्धु तक है पुण्य-भू है मातृ-भू है
श्रेष्ठ जग से यह हमारी धर्म-भू है कर्म भू है
पूज्य इसको ही समझकर वन्दना हम कर रहे हैं
एक स्वर से गीत गाकर
एक ही आधार लेकर॥१॥

बाल रवि सा भाव लेकर जो फहराता है गगन में
त्याग का संदेश देता जो लहरता कोटि उर में
स्वर्ण-गैरिक उसी ध्वज की अर्चना हम कर रहे हैं
राष्ट्र गुरु का मान देकर
एक ही आधार लेकर॥२॥

एक नेता एक ही पथ बस यही है मार्ग अपना
देश है यह हिन्दुओं का बस यहीहै सत्य अपना
सत्य को करने साधना हम कर रहे हैं
संगठन का मंत्र लेकर
एक ही आधार लेकर॥३॥

dhyeya patha para baṛha rahe haiṁ eaka hī viśvāsa lekara
eaka hī ādhāra lekara

śaila se jo sindhu taka hai puṇya-bhū hai mātṛ-bhū hai
śreṣṭha jaga se yaha hamārī dharma-bhū hai karma bhū hai
pūjya isako hī samajhakara vandanā hama kara rahe haiṁ
eka svara se gīta gākara
eaka hī ādhāra lekara||1||

bāla ravi sā bhāva lekara jo phaharātā hai gagana meṁ
tyāga kā saṁdeśa detā jo laharatā koṭi ura meṁ
svarṇa-gairika usī dhvaja kī arcanā hama kara rahe haiṁ
rāṣṭra guru kā māna dekara
eaka hī ādhāra lekara ||2||

eāka netā eka hī patha basa yahī hai mārga apanā
deśa hai yaha hinduoṁ kā basa yahīhai satya apanā
satya ko karane sādhanā hama kara rahe haiṁ
saṁgaṭhana kā maṁtra lekara
eaka hī ādhāra lekara ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply