ध्येय साधना अमर रहे।
ध्येय साधना अमर रहे।

अखिल जगत को पावन करती
त्रस्त उरों में आशा भरती
भारतीय सभ्यता सिखाती
गंगा की चिर धार बहे।

इससे प्रेरित होकर जन-जन
करे निछावर निज तन-मन-धन
पाले देशभक्ति का प्रिय प्रण
अडिग लाख आघात सहे।

भीती न हमको छू पाये
स्वार्थ लालसा नहीं सताये
शुद्ध ह्नदय ले बढते जायें
धन्य-धन्य जग आप कहे।

जीवन पुष्प चढा चरणों पर
माँगे मातृभूमि से यह वर
तेरा वैभव अमर रहे माँ।
हम दिन चार रहें न रहे।

English Transliteration:
dhyeya sādhanā amara rahe |
dhyeya sādhanā amara rahe |

akhila jagata ko pāvana karatī
trasta uroṁ meṁ āśā bharatī
bhāratīya sabhyatā sikhātī
gaṁgā kī cira dhāra bahe |

isase prerita hokara jana-jana
kare nichāvara nija tana-mana-dhana
pāle deśabhakti kā priya praṇa
aḍiga lākha āghāta sahe |

bhītī na hamako chū pāye
svārtha lālasā nahīṁ satāye
śuddha hnadaya le baḍhate jāyeṁ
dhanya-dhanya jaga āpa kahe|

jīvana puṣpa caḍhā caraṇoṁ para
māge mātṛbhūmi se yaha vara
terā vaibhava amara rahe mā |
hama dina cāra raheṁ na rahe |

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply