(है वही पुरुषार्थ जो संघ पथ चलता रहा) x 2
शील धीरज स्नेह के रथ बैठा कर बढ़ाता रहे
है वही पुरुषार्थ जो संघ पथ चलता रहा

सौख्य में फूले नहीं विपदा पद रोव नहीन
कांटेकों के मार्ग में भी धैर्य बाल खोवे नहीं
शत्रु जिसाका देख सहस (हाथ बस मालता रहे) x 2 … है वही

चूमती हैं सफलाएं चरण ऐसे वीर की
भय कभी खाते ना जो चमकते शमसेरा की
संघ के उत्थान हिट निट (नव चयन करता रहा) x 2 … है वही

मान-औ-अपमान सब कुछ हिंदू हिट स्वीकार हो
हिंदू का हिट हो जहां तो मौत भी स्वीकार हो
है याहा वट वृक्ष अपाना (फूलता फलता रहे) x 2 … है वही

जागरण के गीत गाना ही सदा भाता जिस
काल का दुष्चक्र किनचित चू नहीं पाता जिसे
जो तिमिर को फटता (दीपक जला हरता रहे) x 2 … है वही

(Hai Vahee Purushaarth Jo Sangh Path Chalataa Rahe) x 2
Sheel Dheeraj Sneh Ke Rath Baith Kar Badhataa Rahe
Hai Vahee Purushaarth Jo Sangh Path Chalataa Rahe

Saukhya Men Phoole Naheen Vipadaa Pade Rove Naheen
Kantakon Ke Maarg Men Bhee Dhairya Bal Khove Naheen
Shatru Jisakaa Dekh Saahas (Haath Bas Malataa Rahe) x 2 … Hai Vahee

Choomatee Hain Saphalataaen Charan Aise Veer Kee
Bhay Kabhee Khaate Na Jo Chamakatee Shamsera Kee
Sangh Ke Utthaan Hit Nit (Nav Chayan Karataa Rahe) x 2 … Hai Vahee

Maan-Au-Apamaan Sab Kuchh Hindu Hit Sveekaar Ho
Hindu Kaa Hit Ho Jahaan To Maut Bhee Sveekaar Ho
Hai Yaha Vat Vruksha Apanaa (Phoolataa Phalataa Rahe) x 2 … Hai Vahee

Jaagaran Ke Geet Gaanaa Hee Sadaa Bhaataa Jise
Kaal Kaa Dushchakra Kinchit Choo Nahee Paataa Jise
Jo Timir Ko Phaadataa (Deepak Jalaa Hartaa Rahe) x 2 …Hai Vahee

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply