हे जन्मभूमि भारत हे कर्मभूमि भारत
हे वंदनीय भारत अभिनंदनीय भारत
जीवन सुमन चढाकर आराधना करेंगे
तेरी जनम जनम भर हम वंदना करेंगे हम अर्चना करेंगे

महिमा महान तू है गौरव निधान तू है
तू प्राण है हमारी जननी समान तू है
तेरे लिए जियेंगे तेरे लिए मरेंगे
तेरे लिए जनम भर हम साधना करेंगे हम अर्चना करेंगे

जिसका मुकूट हिमालय जग जगमगा रहा है
सागर जिसे रतन की अंजुली चढ़ा रहा है
यह देश है हमारा ललकार कर कहेंगे
उस देश के बिना हम जीवित नहीं रहेंगे हम अर्चना करेंगे

जो संस्कृति अभी तक दुर्जेय सी बनी है
जिसका विशाल मंदिर आदर्श का धनी है
उसकी विजय-ध्वजा ले हम विश्व में चलेंगे
सुर संस्कृतीत बन बन हर कुंज में बहेंगे हम अर्चना करेंगे

शाश्वत स्वतंत्रता का जो दीप जल रहा है
आलोक का पथिक जो अविराम चल रहा है
विश्वास है की पलभर रुकने उसे न देंगे
इस दीप की शिखा को ज्योतित सदा रखेंगे हम अर्चना करेंगे

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply