हिन्दुभुमि गान से गुजँता रहे गगन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥।धृ।जन्मसिद्ध भावना स्वधर्म क बिचार हो
रोम रोम मे रमा स्वधर्म संस्कार हो
आरती उतारते प्राणदीप हो मगन,
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥१॥

हार के सुसुत्र मे मोतियोंकी पंक्तियाँ
नगर नगर ग्राम से संग्रहित शक्तीयाँ
लक्ष लक्ष रुपसे हिन्दु हो बिराट तन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥२॥

ऎक्य शक्ति हिन्दु की प्रगति मे समर्थ हो
धर्म आसरा लिये मोक्ष काम अर्थ हो
पूण्यभुमी आज फिर ज्ञान का बने सदन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥३॥

hindubhumi gaan se guj~MtA rahe gagan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman |||dhRu|

janmasiddha bhAwanA swadharm ka bichAr ho
rom rom me ramA swadharm sMskAr ho
AratI utArate prANadIp ho magan,
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||1||

hAr ke susutra me motiyoMkI paMktiyA~M
nagar nagar grAm se sMgrahit SaktIyA~M
lakSh lakSha rupase hindu ho birAT tan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||2||

Eky shakti hindu kI pragati me samarth ho
dharm AsarA liye mokSh kAm artha ho
pUNyabhumI aaj phir j~jAn kA bane sadan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||3||

Alternative Lyrics

मातृभुमि गान से गुजँता रहे गगन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥।धृ।जन्मसिद्ध भावना स्वदेश क बिचार हो
रोम रोम मे रमा स्वधर्म संस्कार हो
आरती उतारते प्राणदीप हो मगन,
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥१॥

हार के सुसुत्र मे मोतियोंकी पंक्तियाँ
ग्राम नगर प्रांन से संग्रहित शक्तीयाँ
लक्ष लक्ष रुपसे राष्ट्र हो बिराट तन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥२॥

ऎक्य शक्ति देश की प्रगति मे समर्थ हो
धर्म आसरा लिये मोक्ष काम अर्थ हो
पूण्यभुमी आज फिर ज्ञान का बने सदन
स्नेह नीर से सदा फुलते रहे सुमन ॥३॥

mAtRubhumi gaan se guj~MtA rahe gagan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman |||dhRu|

janmasiddha bhAwanA swadesh ka bichAr ho
rom rom me ramA swadharm sMskAr ho
AratI utArate prANadIp ho magan,
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||1||

hAr ke susutra me motiyoMkI paMktiyA~M
grAm nagar prAMn se sMgrahit SaktIyA~M
lakSh lakSha rupase rAShTra ho birAT tan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||2||

Eky shakti desh kI pragati me samarth ho
dharm AsarA liye mokSh kAm artha ho
pUNyabhumI aaj phir j~jAn kA bane sadan
sneh nIr se sadA phulate rahe suman ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply