हो जाओ तय्यार साथियों, हो जाओ तय्यार ||अर्पिता कर दो तन-मन-धन, मांग रहा बलिदान वतन
अगर देश के काम न आए तो जीवन बेकार || १ ||

सोचने का समय गया, उठो लिखो इतिहास नया
बंसी फेंको और उठा लो हाथो में तलवार || २ ||

तूफानी गति रुके नही, शीश कटे पर झुके नही
ताने हुए माथे के सम्मुख ठहर न पाती हार || ३ ||

काँप उठे धरती अम्बर, और उठा लो ऊंचा स्वर
कोटि कोटि कंठों से गूंजे धरम की जे जयकार || ४

ho jaao tayyaar saathiyoň, ho jaao tayyaar ||

arpita kar do tan-man-dhan, maang rahaa balidaan vatan
agar desh ke kaam na aaye to jeevan bekaar || 1 ||

sochane kaa samay gayaa, uTho likho itihaas nayaa
bansee pheňko aur uThaa lo haatho me talvaar || 2 ||

toofaanee gati ruke nahee, sheesh kaTe par jhuke nahee
tane huye maathe ke sammukha Thahar na paatee haar || 3 ||

kaaňp uthe dharati ambar, aur uThaa lo oonchaa svar
koTi koTi kanThoň se goonje dharam kee jay jaykaar || 4

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply