जब सारी दुनिया भूली थी माँ तुमने दीप जलाया था
बेसुध था मनुज तमिस्रा में जाग्रति का गान सुनाया था

जब महाप्रलय की लहरों में
थी नष्ट हुई सुर -सृष्टि सभी
अंतिम अवशेष भरी नौका
तेरे हिमगिरि पर टिकी तभी
मानवता का नूतन पौधा तुमने ही पुनः उगाया था॥१॥

तेरे आंचल की छाया में
मानव ने श्रुति का दूध पिया।
तूने निर्मल व्यवहार सिखा
सभ्यों सा शिष्टाचार दिया
तुझको माँ जग ने पाया था तुमने ही जग को जाया था॥२॥

अब भी विक्षिप्त हुए जग को
पथ दो दायित्व तुम्हारा है
मानवता के सुख -शान्ति हेतु
तेरा ही एक सहारा है
फिर से व्रत वह पालो जननी
युग-युग जिसे निभाया था।
जब सारी दुनिया भूली थी माँ तुमने दीप जलाया था
बेसुध था मनुज तमिस्रा में जाग्रति का गान सुनाया था॥३॥

jaba sārī duniyā bhūlī thī mā tumane dīpa jalāyā thā
besudha thā manuja tamisrā meṁ jāgrati kā gāna sunāyā thā

jaba mahāpralaya kī laharoṁ meṁ
thī naṣṭa huī sura -sṛṣṭi sabhī
aṁtima avaśeṣa bharī naukā
tere himagiri para ṭikī tabhī
mānavatā kā nūtana paudhā tumane hī punaḥ ugāyā thā ||1||

tere āṁcala kī chāyā meṁ
mānava ne śruti kā dūdha piyā |
tūne nirmala vyavahāra sikhā
sabhyoṁ sā śiṣṭācāra diyā
tujhako mā jaga ne pāyā thā tumane hī jaga ko jāyā thā ||2||

aba bhī vikṣipta hue jaga ko
patha do dāyitva tumhārā hai
mānavatā ke sukha -śānti hetu
terā hī eka sahārā hai
phira se vrata vaha pālo jananī
yuga-yuga jise nibhāyā thā |
jaba sārī duniyā bhūlī thī mā tumane dīpa jalāyā thā
besudha thā manuja tamisrā meṁ jāgrati kā gāna sunāyā thā ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply