कोटि-कोटि हिन्दू जन का, हम ज्वार उठाकर मानेंगे।

कोटि-कोटि हिन्दू जन का,
हम ज्वार उठाकर मानेंगे।
सौगंध राम की खाते है,
हम मंदिर भव्य बनायेंगे ॥ध्र॥

जन-जन के मन मे राम रमे,
हर प्राण-प्राण में सीता है।
कंकर-कंकर शंकर इसका,
हर श्वास-श्वास में गीता है।
जीवन की धडकन रामायण,
पग-पग पर पडी पुनीता है।
यदि राम नहीं श्वासों में,
तो प्राणों का घट रीता है।
नर-नाहर श्री पुरुषोत्तम का,
शुभ मंदिर भव्य बनायेंगे ॥१॥

जो नीति अपावन शासन की,
वह नीति तोडकर मानेंगे।
जो सत्तामद में भरा हुआ,
वह कुम्भ फोडकर मानेंगे।
जो फैल रही है आंगन में,
विषबेल कुचलकर मानेंगे।
जो स्वप्न देखते बाबर के,
अरमान मिटाकर मानेंगे।
कितना पशुबल है दानव में,
हम उसे तौलकर मानेंगे ॥२॥

koṭi-koṭi hindū jana kā hama jvāra uṭhākara māneṁge|

koṭi-koṭi hindū jana kā
hama jvāra uṭhākara māneṁge|
saugaṁdha rāma kī khāte hai
hama maṁdira bhavya banāyeṁge ||dhra||

jana-jana ke mana me rāma rame
hara prāṇa-prāṇa meṁ sītā hai|
kaṁkara-kaṁkara śaṁkara isakā
hara śvāsa-śvāsa meṁ gītā hai|
jīvana kī dhaḍakana rāmāyaṇa
paga-paga para paḍī punītā hai|
yadi rāma nahīṁ śvāsoṁ meṁ
to prāṇoṁ kā ghaṭa rītā hai|
nara-nāhara śrī puruṣottama kā
śubha maṁdira bhavya banāyeṁge ||1||

jo nīti apāvana śāsana kī
vaha nīti toḍakara māneṁge|
jo sattāmada meṁ bharā huā
vaha kumbha phoḍakara māneṁge|
jo phaila rahī hai āṁgana meṁ
viṣabela kucalakara māneṁge|
jo svapna dekhate bābara ke
aramāna miṭākara māneṁge|
kitanā paśubala hai dānava meṁ
hama use taulakara māneṁge ||2||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply