लक्ष्य तुम्हारा प्राप्त किये बिन चैन हम नहीं लेंगे
हमें मिली प्रेरणा तुम्हारी पावनतम स्मृति की।

जीवन भर संगठन कार्य को करके बने तपस्वी
पुण्य साध थी एकमेव यह भारत बने यशस्वी
हिमगिरी से कन्याकुमारी तक संस्कृति की जय बोली
राष्ट्र भक्त थे ज्ञान मूर्ति थे ये तत्त्वज्ञ मनस्वी
है हिन्दुत्व राष्ट्र का द्योतक ले विचार यह पावन
हमें मिली प्रेरणा श्रेष्ठतम भारतीय संस्कृति की

प्रभुता का ऐश्वर तुम्हारे मन को मोह न पाया
अहंकार तब प्रतिछाया तक आने में सकुचाया
कार्य अहर्निश कार्य निरन्तर कार्य देश के हित में
करते रहना ही जीवन है श्रेष्ठ मन्त्र सिखलाया
त्याग अहं को कार्य करेंगे सतत राष्ट्र पूजा का।
हमें मिली प्रेरणा तुम्हारी शान्त सुमधुर पध्दति की॥

ध्येय तुम्हारी निज जीवन में प्रतिबिंबित कर लेंगे
जीवन अपना कोटि जन्म तक राष्ट्र कार्य में देंगे
संघ -मन्त्र का गुँजन प्रतिक्षण प्रतिपल आजीवन में
राष्ट्र देव की प्रतिमा उर में प्रस्थापित कर लेंगे।
हे केशव तेरे अनुगामी व्रत लेकर बढ़ते हैं।
रोक न पायेगा को भी बन्धन राह प्रगति की।

lakṣya tumhārā prāpta kiye bina caina hama nahīṁ leṁge
hameṁ milī preraṇā tumhārī pāvanatama smṛti kī |

jīvana bhara saṁgaṭhana kārya ko karake bane tapasvī
puṇya sādha thī ekameva yaha bhārata bane yaśasvī
himagirī se kanyākumārī taka saṁskṛti kī jaya bolī
rāṣṭra bhakta the jñāna mūrti the ye tattvajña manasvī
hai hindutva rāṣṭra kā dyotaka le vicāra yaha pāvana
hameṁ milī preraṇā śreṣṭhatama bhāratīya saṁskṛti kī

prabhutā kā aiśvara tumhāre mana ko moha na pāyā
ahaṁkāra taba pratichāyā taka āne meṁ sakucāyā
kārya aharniśa kārya nirantara kārya deśa ke hita meṁ
karate rahanā hī jīvana hai śreṣṭha mantra sikhalāyā
tyāga ahaṁ ko kārya kareṁge satata rāṣṭra pūjā kā |
hameṁ milī preraṇā tumhārī śānta sumadhura padhdati kī ||

dhyeya tumhārī nija jīvana meṁ pratibiṁbita kara leṁge
jīvana apanā koṭi janma taka rāṣṭra kārya meṁ deṁge
saṁgha -mantra kā gujana pratikṣaṇa pratipala ājīvana meṁ
rāṣṭra deva kī pratimā ura meṁ prasthāpita kara leṁge |
he keśava tere anugāmī vrata lekara baṛhate haiṁ |
roka na pāyegā koī bhī bandhana rāha pragati kī |

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply