तुम्हें जन्म दे धन्य हुई माँ भारत -भुमि हमारी।

नव जीवन भर कण-कण में ब्रम्ह-प्रेम रस धारा।
अमिट राग भरकर हे माधव सार्थक नाम तुम्हारा।
चिर बसन्त में फूल रही है आशा की फुलवारी॥धीरोदात्त॥

प्राची का भी मुख उज्ज्वल है माधव किरणें फैली।
चला अंधेरा ले समेट कर अपनी-चादर मैली।
अंधकार अज्ञान निशा की मिटी कालिमा सारी॥धीरोदात्त॥

प्रबल वेग को रोक जटा में बहा शान्त रस धारा।
आज विश्व में प्रगटित है शिव सुन्दर देश तुम्हारा।
तरल गरल भी पान किया है अचराचर हितकारी॥धीरोदात्त॥

देव तुम्हारी पुण्य स्मृति में रोम-रोम हर्षित है।
देव तुम्हारे पद पद्मों पर श्रध्दांजलि अर्पित है
माधव बन ध्रुव ज्योति दिखा दो जय मानस- भयहारी॥धीरोदात्त॥

mauna namana he mauna tapasvī dhīrodātta pujārī |
tumheṁ janma de dhanya huī mā bhārata -bhumi hamārī |

nava jīvana bhara kaṇa-kaṇa meṁ bramha-prema rasa dhārā |
amiṭa rāga bharakara he mādhava sārthaka nāma tumhārā |
cira basanta meṁ phūla rahī hai āśā kī phulavārī||dhīrodātta ||

prācī kā bhī mukha ujjvala hai mādhava kiraṇeṁ phailī |
calā aṁdherā le sameṭa kara apanī-cādara mailī|
aṁdhakāra ajñāna niśā kī miṭī kālimā sārī ||dhīrodātta ||

prabala vega ko roka jaṭā meṁ bahā śānta rasa dhārā |
āja viśva meṁ pragaṭita hai śiva sundara deśa tumhārā |
tarala garala bhī pāna kiyā hai acarācara hitakārī ||dhīrodātta ||

deva tumhārī puṇya smṛti meṁ roma-roma harṣita hai|
deva tumhāre pada padmoṁ para śradhdāṁjali arpita hai
mādhava bana dhruva jyoti dikhā do jaya mānasa- bhayahārī ||dhīrodātta||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply