पृथ्वी से जुड़े प्राणियों की प्रभा (ऊर्जा पिंडों) और मन को ग्रह प्रभावित करते हैं। प्रत्येक ग्रह में एक विशिष्ट ऊर्जा गुणवत्ता होती है, जिसे उसके लिखित और ज्योतिषीय सन्दर्भों के माध्यम से एक रूपक शैली में वर्णित किया जाता है। ग्रहों की ऊर्जा किसी व्यक्ति के भाग्य के साथ एक विशिष्ट तरीके से उस वक्त जुड़ जाती है जब वे अपने जन्मस्थान पर अपनी पहली सांस लेते हैं। यह ऊर्जा जुड़ाव धरती के निवासियों के साथ तब तक रहता है जब तक उनका वर्तमान शरीर जीवित रहता है। “नवग्रह, सार्वभौमिक, आद्यप्ररुपीय ऊर्जा के संचारक हैं। प्रत्येक ग्रह के गुण स्थूल जगत और सूक्ष्म जगत वाले ब्रह्मांड की ध्रुवाभिसारिता के समग्र संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं, जैसे नीचे वैसे ही ऊपर। मनुष्य भी, ग्रह या उसके स्वामी देवता के साथ संयम के माध्यम से किसी विशिष्ट ग्रह की चुनिन्दा ऊर्जा के साथ खुद की अनुकूलता बिठाने में सक्षम हैं। विशिष्ट देवताओं की पूजा का प्रभाव उनकी सम्बंधित ऊर्जा के माध्यम से पूजा करने वाले व्यक्ति के लिए तदनुसार फलता है, विशेष रूप से सम्बंधित ग्रह द्वारा धारण किये गए भाव के अनुसार। “ब्रह्मांडीय ऊर्जा जो हम हमेशा प्राप्त करते हैं उसमें अलग-अलग खगोलीय पिंडों से आ रही ऊर्जा शामिल होती हैं।” “जब हम बार-बार किसी मंत्र का उच्चारण करते हैं तो हम किसी ख़ास फ्रीक्वेंसी के साथ तालमेल बैठाते हैं और यह फ्रीक्वेंसी ब्रह्मांडीय ऊर्जा के साथ संपर्क स्थापित करती है और उसे हमारे शरीर के भीतर और आसपास खींचती है।”

नवग्रहों में ऐसा ही मन्त्र या स्तोत्र है जिसे कि नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् कहा जाता है, जिसमे कि नवग्रहों से अपनी पीड़ा का हरणे (निवारण) की प्रार्थना की गई है । यहाँ दो नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् दिया जा रहा है। साधक इनमे से किसी भी एक या दोनों ही का पाठ कर सकते हैं ।

|| नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् ||

ग्रहाणामादिरादित्यो लोकरक्षणकारकः ।

विषमस्थानसंभूतां पीडां हरतु मे रविः ॥ १॥

रोहिणीशः सुधामूर्तिः सुधागात्रः सुधाशनः ।

विषमस्थानसंभूतां पीडां हरतु मे विधुः ॥ २॥

भूमिपुत्रो महातेजा जगतां भयकृत् सदा ।

वृष्टिकृद्वृष्टिहर्ता च पीडां हरतु मे कुजः ॥ ३॥

उत्पातरूपो जगतां चन्द्रपुत्रो महाद्युतिः ।

सूर्यप्रियकरो विद्वान् पीडां हरतु मे बुधः ॥ ४॥

देवमन्त्री विशालाक्षः सदा लोकहिते रतः ।

अनेकशिष्यसम्पूर्णः पीडां हरतु मे गुरुः ॥ ५॥

दैत्यमन्त्री गुरुस्तेषां प्राणदश्च महामतिः ।

प्रभुस्ताराग्रहाणां च पीडां हरतु मे भृगुः ॥ ६॥

सूर्यपुत्रो दीर्घदेहो विशालाक्षः शिवप्रियः ।

मन्दचारः प्रसन्नात्मा पीडां हरतु मे शनिः ॥ ७॥

महाशिरा महावक्त्रो दीर्घदंष्ट्रो महाबलः ।

अतनुश्चोर्ध्वकेशश्च पीडां हरतु मे शिखी ॥ ८॥

अनेकरूपवर्णैश्च शतशोऽथ सहस्रशः ।

उत्पातरूपो जगतां पीडां हरतु मे तमः ॥ ९॥

॥ इति ब्रह्माण्डपुराणोक्तं नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् सम्पूर्णम् ॥

|| नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् २ ||

सिन्दूरारुण रक्ताङ्गः कर्णान्तायत लोचनः ।

सहस्रकिरणः श्रीमान् सप्ताश्वकृतवाहनः ॥ १॥

गभस्तिमाली भगवान्शिवपूजापरायणः ।

करोतु मे महाशान्तिं ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ २॥

जगदाप्यायनकरो ह्यमृताधारशीतलः ।

सोमः सौम्येन भावेन ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ ३॥

पद्मरागनिभा नेना देहेनापिङ्गललोचनः ।

अङ्गारकः शिवेभक्तो रुद्रार्चन परायणः ॥ ४॥

रुद्रसद्भावसम्पन्नो रुद्रध्यानैकमनसः

ग्रहपीडा भयं सर्वं विनाशयतु मे सदा ॥ ५॥

कुंङ्कुमच्छविदेहेन चारुद्युत्करतः सदा ।

शिवभक्तो बुधः श्रीमान् ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ ६॥

धातु चामीकरच्छायः सर्वज्ञानकृतालयः ।

बृहस्पतिः सदाकालमीशानार्चनतत्परः ॥ ७॥

सोऽपि मे शान्तचित्तेन परमेण समाहितः ।

ग्रहपीडां विनिर्जित्य करोतु विजयं सदा ॥ ८॥

हिमकुन्देन्दुतुल्याभः सुरदैत्येन्द्रपूजितः ।

शुक्रः शिवार्चनरतो ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ ९॥

भिन्नाञ्जनचयच्छायः सरक्तनयनद्युतिः ।

शनैश्चरः शिवेभक्तो ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ १०॥

नीलाञ्जननिभः श्रीमान् सैहिकेयो महाबलः ।

शिवपूजापरो राहुग्रहपीडा व्यपोहतु ॥ ११॥

धूम्राकारो ग्रहः केतुरैशान्यां दिशि संस्थितः ।

वर्तुलोऽतीव विस्तीर्णलोचनैश्च विभीषणः ॥ १२॥

पलाशधूम्रसङ्काशो ग्रहपीडाऽपकारकः ।

घोरदंष्ट्राकरालश्च करोतु विजयं मम ॥ १३॥

खड्गखेटकहस्तश्च वरेण्यो वरदः शुभः ।

शिवभक्तश्चाऽग्रजन्मा ग्रहपीडां व्यपोहतु ॥ १४॥

एते ग्रहा महात्मानो महेशार्चनभाविताः ।

शान्तिं कुर्वन्तु मे हृष्टाः सदाकालं हितैषिणः ॥ १५॥

इति नवग्रहपीडाहरस्तोत्रम् (२) सम्पूर्णम् ॥

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply