Kabir Dohe

काजल केरी कोठढ़ी तैसा यहु संसार | Kajal Keri Kothadi, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा ( Kabir Doha ) काजल केरी कोठढ़ी, तैसा यहु संसार। बलिहारी ता दास की, पैसि रे निकसणहार॥ Kajal…

निरबैरी निहकाँमता साँई सेती नेह | Nirbairi Nihkamata Sai, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में )

कबीर दोहा ( Kabir Doha ) निरबैरी निहकाँमता, साँई सेती नेह। विषिया सूँ न्यारा रहै, संतहि का अँग एह॥ Nirbehi…

संत न छाड़ै संतई जे कोटिक मिलै असंत | Sant Na Chhade Santayi, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) संत न छाड़ै संतई, जे कोटिक मिलै असंत। चंदन भुवंगा बैठिया, तउ सीतलता न तजंत॥ Sant…

कबीर हरि का भाँवता दूरैं थैं दीसंत | Kabir Hari Ka Bhawata, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में )

कबीर दोहा ( Kabir Doha ) कबीर हरि का भाँवता, दूरैं थैं दीसंत। तन षीणा मन उनमनाँ, जग रूठड़ा फिरंत॥…

अणरता सुख सोवणाँ रातै नींद न आइ | Anrata Sukh Sovana, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा ( Kabir Doha ) अणरता सुख सोवणाँ, रातै नींद न आइ, ज्यूँ जल टूटै मंछली यूँ बेलंत बिहाइ॥…

एक कनक अरु काँमनी दोऊ अगनि | Ek Kanak Aru Kamini, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) एक कनक अरु काँमनी दोऊ अगनि की झाल। देखें ही तन प्रजलै, परस्याँ ह्नै पैमाल॥ Ek…

कबीर भग की प्रीतड़ी केते गए गड़ंत | Kabir Bhag Ki Preetadi Kete, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) कबीर भग की प्रीतड़ी, केते गए गड़ंत। केते अजहूँ जायसी, नरकि हसंत हसंत॥ Kabir Bhag Ki…

पांहण केरा पूतला करि पूजै करतार | Pahan Kera Putala, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) पांहण केरा पूतला, करि पूजै करतार। इही भरोसै जे रहे, ते बूड़े काली धार॥ Pahan Kera…

लेखा देणाँ सोहरा जे दिल साँचा होइ हिंदी | Lekha Dena Sohara, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) लेखा देणाँ सोहरा, जे दिल साँचा होइ। उस चंगे दीवाँन मैं, पला न पकड़े कोइ॥ Or…

साधू की संगती रहो जौ की भूसी खाऊ | Sadhu Ki Sangati Raho, Kabir Ke Dohe (Saakhi) Hindi Arth/Hindi Meaning Sahit (कबीर दास जी के दोहे सरल हिंदी मीनिंग/अर्थ में)

कबीर दोहा (Kabir Doha) साधू की संगती रहो, जौ की भूसी खाऊ, खीर खांड भोजन मिले, साकती संग ना जाऊ,…