Yaha Bhagwa Rashtra Nishan-यह भगवा राष्ट्र निशान

यह भगवा राष्ट्र निशान फहराता प्यारा।
वर्षाता पावित्र्य तेज की धारा॥

रक्तिमा अरुणसंध्या का
दीप्तवर्ग अग्निशिखा का
यह तिलक मातृभूमि का
ऋषि मुनियों का तपस्वियों का संतों का बल सारा ॥१॥

यह असुरों का मर्दक है
यह सुजनों का चालक है
यह विनतों का तारक है
रिपु रुधिर रंग से रंजित है वह नरवीरों का प्यारा ॥२॥

वीरों ने इसे उठाया
राजाओं ने फहराया
सम्राटों ने लहराया
अगणित माता सत्पुत्रों ने इस पर तन-मन वारा ॥३॥

चारित्र्य हमें सिखलाता
त्यग का मर्गा दिखलाता
संदेश शौर्य का देता
इस नील गगन मे ऊँचा फहरे भारत भूमि का तारा ॥४॥

English Transliteration:
yaha bhagavā rāṣṭra niśāna phaharātā pyārā |
varṣātā pāvitrya teja kī dhārā ||

raktimā aruṇasaṁdhyā kā
dīptavarga agniśikhā kā
yaha tilaka mātṛbhūmi kā
ṛṣi muniyoṁ kā tapasviyoṁ kā saṁtoṁ kā bala sārā ||1||

yaha asuroṁ kā mardaka hai
yaha sujanoṁ kā cālaka hai
yaha vinatoṁ kā tāraka hai
ripu rudhira raṁga se raṁjita hai vaha naravīroṁ kā pyārā ||2||

vīroṁ ne ise uṭhāyā
rājāoṁ ne phaharāyā
samrāṭoṁ ne laharāyā
agaṇita mātā satputroṁ ne isa para tana-mana vārā ||3||

cāritrya hameṁ sikhalātā
tyaga kā margā dikhalātā
saṁdeśa śauourya kā detā
isa nīla gagana me ūcā phahare bhārata bhūmi kā tārā ||4||

Leave a Reply