हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।

आसमान का चाँद हमी ने
थाली बीच उतारा है,
आसमान का सतरंगा वह
बाँका धनुष हमारा है।
आसमान के तारों में वे तीर हमारे गड़े–गड़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।

भरत रूप में हमने ही तो
दांत गिने थे शेरों के,
और राम बन दांत किये थे
खट्‌टे असुर–लुटेरों के।
कृष्ण–कन्हैया बन कर हमने नाग नथा था खड़े–खड़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

बापू ने जब बिगुल बजाया
देश जगा, हम भी जागे,
आजादी के महायुद्ध में
हम सब थे आगे–आगे।
इस झंडे की खातिर हमने कष्ट सहे थे कड़े–कड़े।
हम बच्चे है छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

हर परेड गणतंत्र दिवस की
हम बच्चों से सजती है,
वीर बालकों की झांकी पर
खूब तालियां बजती हैं।
पाते जन–गण–मन का आशिष हाथी पर हम चढ़े–चढ़े।
हम बच्चे हैं छोटे–छोटे, काम हमारे बड़े–बड़े।।

, , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply