अन्न ग्रहण करने से पहले विचार मन में करना है
किस हेतु से इस शरीर का रक्षण पोषण करना है
हे परमेश्वर एक प्रार्थना नित्य तुम्हारे चरणो में
लग जाये तन मन धन मेरा विश्व धर्म की सेवा में

ॐ ब्रह्मार्पणं ब्रह्मा हविर्ब्रह्माग्नौ ब्रह्मणाहुतं
ब्रह्मैव तेना गन्तव्यंब्रह्म कर्म समाधिना

ॐ सहनाववतुसहनौ भुनक्तु
सहवीर्यं करवावहैतेजस्विनावधीतमस्तुमा विद्विषा वहै
ॐ शान्तिः शान्तिः शान्तिः

English Transliteration:
anna grahaṇa karane se pahale vicāra mana meṅ karanā hai
kisa hetu se isa śarīra kā rakṣaṇa poṣaṇa karanā hai
he parameśvara eka prārthanā nitya tumhāre caraṇo meṅ
laga jāye tana mana dhana merā viśva dharma kī sevā meṅ

brahmārpaṇaṁ brahmā havir brahmāgnau brahmaṇāhutaṁ
brahmaiva tenā gantavyaṁ brahma karma samādhinā

om sahanāvavatusahanau bhunaktu
sahavīryaṁ karavāvahai tejasvināvadhītamastu mā vidviṣā vahai
om śāntiḥ śāntiḥ śāntiḥ

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply