एक सीढ़ी और चढ़ आया
समय इस साल
जाने छत कहाँ है।

प्राण तो हैं प्राण
जिनको देह–धनु से छूटना है,
जिंदगी – उपवास
जिसको शाम के क्षण टूटना है,
हम समय के हाथ से
छूटे हुए रूमाल,
जाने छत कहाँ है।

यह सुबह, यह शाम
बुझते दीपकों की व्यस्त आदत
और वे दिन–रात
कोने से फटे जख्मी हुए ख़त
यह हथेली भी हुई है
मकड़ियों का जाल
जाने छत कहाँ है।

, , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply