मातृ चरणों में समर्पित है युगों की साधना
सत्य नुतन यश खिले तब यह अकिंचन कामना

शीश तब हिमगिरि सुशोभित पग महोदधि धो रहा
नीर पावन सरित का तव पी चराचर जी रहा
शस्य श्यामल भुमि प्यारी हम करें आराधना॥ १॥

जो भी आया ले लिया हर्षित उसे तू गोद में
पिलाकर निज क्षीर पाला है उसे आमोद में
विश्व में बेजोड तव वैशिष्टय माँ है मानना॥२॥

कठिन झंझावात में भी तू अडिग हिमवान बन
है दिया जग को अपरिमित संस्कृति औ ज्ञान धन
अखिल विश्वाधार औ सुख शांति की हो सर्जना॥३॥

तव चरण की धूलि पर माँ कोटिशः सिर हैं समर्पित
अर्चना के दीप जननी कोटिशः हैं आज अर्पित
कौन है जग में करे जो आज तव अवमानना॥४॥

mātṛ caraṇoṁ meaṁ samarpita hai yugoaṁ kī sādhanā
satya nutana yaśa khile taba yaha akiaṁcana kāmanā

śīśa taba himagiri suśobhita paga mahodadhi dho rahā
nīra pāvana sarita kā tava pī carācara jī rahā
śasya śyāmala bhumi pyārī hama kareṁ ārādhanā|| 1||

jo bhī āyā le liyā harṣita use tū goda meṁ
pilākara nija kṣīra pālā hai use āmoda meṁ
viśva meṁ bejoḍa tava vaiśiṣṭaya mā hai mānanā||2||

kaṭhina jhaṁjhāvāta meṁ bhī tū aḍiga himavāna bana
hai diyā jaga ko aparimita saṁskṛti au jñāna dhana
akhila viśvādhāra au sukha śāṁti kī ho sarjanā||3||

tava caraṇa kī dhūli para mā koṭiśaḥ sira haiṁ samarpita
arcanā ke dīpa jananī koṭiśaḥ haiṁ āja arpita
kauna hai jaga meṁ kare jo āja tava avamānanā ||4||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply