जाने क्या हुआ कि दिन
काला सा पड़ गया।

चीज़ों के कोने टूटे
बातों के स्वर डूब गये
हम कुछ इतना अधिक मिले
मिलते–मिलते ऊब गये
आँखों के आगे सहसा–
जाला–सा पड़ गया।

तुम धीरे से उठे और
कुछ बिना कहे चल दिये
हम धीरे से उठे स्वयं को–
बिना सहे चल दिये
खुद पर खुद के शब्दों का
ताला सा पड़ गया।

जाने क्या हुआ कि दिन
काला सा पड़ गया।

, , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply