Rashtradev Ka Dhyan Kare-राष्ट्रदेव का ध्यान करें

राष्ट्रदेव का ध्यान करें
अन्तर्मन के भाव संजोकर राष्ट्रदेव का ध्यान धरें
अपना तन मन अपना जीवन इस वेदी पर दान करें

जिसकी रक्षा करने को ही देवों के अवतार हुए
जिसके पावन कर्म देवता संस्कृति के आधार हुए
पूत देववाणी कहलायी जिनसे यह संस्कृति भाषा
देव धरा पर कभी न पनपी दुष्ट दानवों की आशा
इसी राष्ट्र का निज पौरुष से विक्रम से निर्माण करें॥१॥

जिसकी पूजा की वीरों ने सदियों अपने प्राणों से
माँ बहनों ने शिशु बालों ने निज अनुपम बलिदानों से
जिसकी जय -जय कहते -कहते लाखों ने फाँसी पायी
जिसके आँगन में स्वतन्त्रता देवी ने लोरी गायी
इसको अजर अमर करने को फिर सशक्त बलवान बने॥२॥

सबसे उर्वर इसकी धरती सबसे शुचि इसका पानी
अन्नपूर्णा लक्ष्मी है यह सिंहवाहिनी मर्दानी
विविध अन्न फल-फूल यहाँ पर उगते आये सदा अपार
स्वर्ण रजत हिरे मोती की यह वसुधा अक्षय आगार
अपने श्रम अपने उद्यम से फिर इसको धनवान करें॥३॥

ऊँच नीच के भेद भुला दें बन्धु-बन्धु सब एक रहें
अनुशासन से ह्रदय सींच कर पौरुष के अतिरेक बनें
राष्ट्र हेतु सर्वस्व समर्पण को जन-जन तैयार रहे
ह्रदय -ह्रदय से राष्ट्र -भक्ति की बहती अविरल धार रहे
संगठनों से सारे जग में फिर इसको छविमान करे॥४॥

rāṣṭradeva kā dhyāna kareṁ
antarmana ke bhāva saṁjokara rāṣṭradeva kā dhyāna dhareṁ
apanā tana mana apanā jīvana isa vedī para dāna kareṁ

jisakī rakṣā karane ko hī devoṁ ke avatāra hue
jisake pāvana karma devatā saṁskṛti ke ādhāra hue
pūta devavāṇī kahalāyī jinase yaha saṁskṛti bhāṣā
deva dharā para kabhī na panapī duṣṭa dānavoṁ kī āśā
isī rāṣṭra kā nija pauruṣa se vikrama se nirmāṇa kareṁ ||1||

jisakī pūjā kī vīroṁ ne sadiyoṁ apane prāṇoṁ se
mā bahanoṁ ne śiśu bāloṁ ne nija anupama balidānoṁ se
jisakī jaya -jaya kahate -kahate lākhoṁ ne phāsī pāyī
jisake āgana meṁ svatantratā devī ne lorī gāyī
isako ajara amara karane ko phira saśakta balavāna bane ||2||

sabase urvara isakī dharatī sabase śuci isakā pānī
annapūrṇā lakṣmī hai yaha siṁhavāhinī mardānī
vividha anna phala-phūla yahā para ugate āye sadā apāra
svarṇa rajata hire motī kī yaha vasudhā akṣaya āgāra
apane śrama apane udyama se phira isako dhanavāna kareṁ ||3||

ūca nīca ke bheda bhulā deṁ bandhu-bandhu saba eka raheṁ
anuśāsana se hradaya sīṁca kara pauruṣa ke atireka baneṁ
rāṣṭra hetu sarvasva samarpaṇa ko jana-jana taiyāra rahe
hradaya -hradaya se rāṣṭra -bhakti kī bahatī avirala dhāra rahe
saṁgaṭhanoṁ se sāre jaga meṁ phira isako chavimāna kare ||4||

Leave a Reply