तू ही राम है, तू रहीम है,

तू करीम, कृष्ण, खुदा हुआ,

तू ही वाहे गुरु, तू ईशू मसीह,

हर नाम में, तू समा रहा ।

तू ही राम है, तू रहीम है,…….

तेरी जात पाक कुरान में,

तेरा दर्श वेद पुराण में ,

गुरु ग्रन्थ जी के बखान में,

तू प्रकाश अपना दिखा रहा ।

तू ही राम है, तू रहीम है,…….

अरदास है, कहीं कीर्तन,

कहीं राम धुन, कहीं आव्हन,

विधि भेद का है ये सब रचन,

तेरा भक्त तुझको बुला रहा ।

तू ही राम है, तू रहीम है,…….

तू ही ध्यम में ,तू ही ज्ञान में

तू ही प्राणियों के प्राण में

कहीं आंसू में बहा तू ही

कहीं फूल बनके खिला हुआ। ।

तू ही राम है तू रहीम है ,…….

विधि वेष जात के भेद से

हमें मुक्त कर दो परम पिता ,

तुझे देख पाये सभी में हम

तुझे ध्या सके हम सभी जगह। ।

तू ही राम है तू रहीम है ,…….

तेरे गुण नहीं हम गा सके

तुझे कैसे मन में ध्या सके,

है दुआ यही तुझे पा सके

तेरे दर पे सर ये झुका हुआ। ।

तू ही राम है तू रहीम है ,

तू करीम, कृष्ण, खुदा हुआ,

तू ही वाहे गुरु, तू ईशू मसीह,

हर नाम में, तू समा रहा ।

तू ही राम है तू रहीम है …….

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply