Utho Hinduo Kare Siddhata-उठो हिन्दुओं करें सिध्दता

उठो हिन्दुओं करें सिध्दता नवयुग के निर्माण की।
जय बजरंगी करो गर्जना जय बोलो श्रीराम की॥

आघातों की झड़ी लगी थी बलिदानों की प्रखर कड़ी।
राम कृष्ण शंकर की धरती बार-बार रणभूमि बनी।
सोमनाथ ने दिशा दिखाई पुनः विजय अभियान की
सोमनाथ की धर्मधरा पर हमले ग्यारह बार हुए
मन्दिर तोड़ा प्रतिमा फोड़ी स्वर्ण रत्न भण्डार लुटे
स्वतंत्रता के उषा काल में हुई प्रतिष्ठा प्राण की। जय बोलो…

सहकर अस्सी भीषण झटके सदियों का धीरज टूटा
बर्बरता का प्रतीक ढाँचा छह घंटों में जब टूटा
जन्मभूमि पर विशाल मन्दिर साध यही जन ज्वार की। जय बोलो…

विश्वनाथ है अनाथ घर में कारा में श्रीकृष्ण खड़े।
श्रध्दा के ये केन्द्र हमारे बरसों से हैं ध्वस्त पड़े।
अब न सहेंगे और उपेक्षा मानबिन्दु सुरधाम की
परबशता की घोर व्यथाएं अब तक क्यों न हमने झेलीं
यक्ष प्रश्न हैं खड़े सामने सुलझायेंगे कठिन पहेली
मजबूरी को ठोकर मारें चुने डगर सम्मान की | जय बोलो…

अपने ही घर में निर्वासन मतान्तरण का चक्र बड़ा।
पर हिन्दु का खून न खौला भ्रम से भूला भटक रहा।
कहें गर्व से हम हिन्दू हैं मंत्र शक्ति उत्थान की।जय बोलो…

uṭho hinduoṁ kareṁ sidhdatā navayuga ke nirmāṇa kī |
jaya bajaraṁgī karo garjanā jaya bolo śrīrāma kī ||

āghātoṁ kī jhaṛī lagī thī balidānoṁ kī prakhara kaṛī |
rāma kṛṣṇa śaṁkara kī dharatī bāra-bāra raṇabhūmi banī |
somanātha ne diśā dikhāī punaḥ vijaya abhiyāna kī
somanātha kī dharmadharā para hamale gyāraha bāra hue
mandira toṛā pratimā phoṛī svarṇa ratna bhaṇḍāra luṭe
svataṁtratā ke uṣā kāla meṁ huī pratiṣṭhā prāṇa kī | jaya bolo…

sahakara assī bhīṣaṇa jhaṭake sadiyoṁ kā dhīraja ṭūṭā
barbaratā kā pratīka ḍhācā chaha ghaṁṭoṁ meṁ jaba ṭūṭā
janmabhūmi para viśāla mandira sādha yahī jana jvāra kī | jaya bolo…

viśvanātha hai anātha ghara meṁ kārā meṁ śrīkṛṣṇa khaṛe |
śradhdā ke ye kendra hamāre barasoṁ se haiṁ dhvasta paṛe |
aba na saheṁge aura upekṣā mānabindu suradhāma kī
parabaśatā kī ghora vyathāeṁ aba taka kyoṁ na hamane jhelīṁ
yakṣa praśna haiṁ khaṛe sāmane sulajhāyeṁge kaṭhina pahelī
majabūrī ko ṭhokara māreṁ cune ḍagara sammāna kī jaya bolo…

apane hī ghara meṁ nirvāsana matāntaraṇa kā cakra baṛā |
para hindu kā khūna na khaulā bhrama se bhūlā bhaṭaka rahā |
kaheṁ garva se hama hindū haiṁ maṁtra śakti utthāna kī jaya bolo…

Leave a Reply