देखो कोयल काली है
पर मीठी है इसकी बोली
इसने ही तो कूक–कूक कर
आमों में मिसरी घोली
कोयल कोयल सच बतलाओ
क्या संदेशा लाई हो
बहुत दिनों के बाद आज फिर
इस डाली पर आई हो

क्या गाती हो किसे बुलाती
बतला दो कोयल रानी
प्यासी धरती देख माँगती
क्या मेघों से पानी?
कोयल यह मिठास क्या तुमने
अपनी माँ से पाई है
माँ ने ही क्या मीठी बोली
यह सिखलाई है

डाल डाल पर उड़ना–गाना
जिसने तुम्हें सिखाया है
सबसे मीठे–मीठे बोलो
यह भी तुम्हें बताया है
बहुत भली हो तुमने माँ की
बात सदा ही मानी है
इसीलिये तो तुम कहलाती
हो सब चिड़ियों की रानी

, , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply