सखी वे मुझ से कह कर जाते,
कह तो क्या वे मुझको अपनी पग बाधा ही पाते?

मुझको बहुत उन्होंनें माना
फिर भी क्या पूरा पहचाना?
मैंने मुख्य उसी को जाना
जो वे मन में लाते।

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

स्वयं सुसज्जित कर के क्षण में,
प्रियतम को प्राणों के पण में,
हम ही भेज देती हैं रण में ­
क्षात्र धर्म के नाते।

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

हुआ न यह भी भाग्य अभागा,
किस पर विफल गर्व अब जागा?
जिसने अपनाया था, त्यागाऌ
रहे स्मरण ही आते!

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

नयन उन्हें हैं निष्ठुर कहते,
पर इनसे आंसू जो बहते,
सदय हृदय वे कैसे सहते?
गये तरस ही खाते!

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

जाएं, सिद्धि पावें वे सुख से,
दुखी न हों इस जन के दुख से,
उपालम्भ दूं मैं किस मुख से?
आज अधिक वे भाते!

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

गये लौट भी वे आवेंगे,
कुछ अपूर्व अनुपम लावेंगे,
रोते प्राण उन्हें पावेंगे,
पर क्या गाते गाते?

सखी वे मुझ से कह कर जाते।

, , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply