Abhinandan Hey Maun Tapasvi – अभिनंदन हे! मौन तपस्वी

अभिनंदन हे! मौन तपस्वीअभिनंदन हे! मौन तपस्वी धीरोदात्त पुजारी!
तुम्हें जन्म दे धन्य हुई मां भारत भूमि हमारी!!

नव जीवन भर कर कण-कण में, बहा प्रेम रस धारा,
अमित राग मन में भर केशव साथर्क नाम तुम्हारा!
फिर बसंत की फूल रही है, आशा की फूलवारी………… १

आज जागरण का स्वर लेकर मलियानिल के झोंके
प्रेम हृदय में भरते जाते कोटी कोटी सुमनों के
नव प्रभात हो रहा चतुदिर्क फैली फिर उजियारा ……!! ? !!

प्राची का मुख भी उज्ज्वल है केशव किरणें फैली
चला अंधेरा ले समेट कर अपनी चादर मैली
अंधकार अज्ञान ही त्यागी मिटी कालिमा सारी …………।। २

देव तुम्हारी पुण्य स्मृति में रोम रोम हषिर्त है
देव तुम्हारे पद पदमों पर श्रध्दांजलि अपिर्त है
केशव बन ध्रुव ज्योति दिखा दो जन मानस भवहारी…… ३

aBinaMdana he! mauna tapasvI

aBinaMdana he! mauna tapasvI dhIrodAtta pujArI!
tumheM janma de dhanya hu^^I mAM BArata BUmi hamArI!!

nava jIvana Bara kara kaNa-kaNa meM, bahA prema rasa dhArA,
amita rAga mana meM Bara keSava sAtharka nAma tumhArA!
Pira basaMta kI PUla rahI hai, ASA kI PUlavArI………… 1

Aja jAgaraNa kA svara lekara maliyAnila ke JoMke
prema hRudaya meM Barate jAte koTI koTI sumanoM ke
nava praBAta ho rahA catudirka PailI Pira ujiyArA ……!! ? !!

prAcI kA muKa BI ujjvala hai keSava kiraNeM PailI
calA aMdherA le sameTa kara apanI cAdara mailI
aMdhakAra aj~jAna hI tyAgI miTI kAlimA sArI …………|| 2

deva tumhArI puNya smRuti meM roma roma haShirta hai
deva tumhAre pada padamoM para SradhdAMjali apirta hai
keSava bana dhruva jyoti diKA do jana mAnasa BavahArI…… 3

Leave a Reply