ऐ मालिक तेरे बन्दे हम

ऐसे हों हमारे करम

नेकी पर चलें और बदी से टलें

ताकि हंसते हुए निकले दम

ये अँधेरा घना छा रहा , तेरा इंसान घबरा रहा

हो रहा बेखबर कुछ न आता नज़र

सुख का सूरज छुपा जा रहा

है तेरी रौशनी में जो दम,

तू अमावास को कर दे पूनम,

नेकी पर चलें , और बदी से टलें

ताकि हंसते हुए निकले दम .

जब जुल्मों का हो सामना , तब तू ही हमें थामना

वो बुराई करे हम भलाई भरें,

नहीं बदले की हो कामना,

बढ़ उठे प्यार का हर कदम, और मिटे बैर का ये भरम

नेकी पर चलें और बदी से टलें,

ताकि हंसते हुए निकले दम .

बड़ा कमज़ोर है आदमी, अभी लाखों हैं इसमें कमी

पर तू जो खड़ा, है दयालू बड़ा

तेरी किरपा से धरती थमी

दिया तूने हमे जब जनम,

तू ही झेलेगा हम सबके ग़म,

नेकी पर चलें और बदी से टलें

ताकि हंसते हुए निकले दम.

ऐ मालिक तेरे बन्दे हम – यह प्रार्थना हर विद्यालय में मोरिनिंग प्रेयर में पढ़ी जाती है | यह बोल जो ऊपर दिए गए हैं वो हमारे अनुसार सही हैं | अगर आप को कुछ गलत लगता है आप जरूर बताएं |

इस भगवा प्लेटफार्म से हम हिंदू अथवा हिंदुस्तान के लोगों से एक सभ्य व शिक्षित समाज की कल्पना करते हैं। जिस प्रकार से राम – राज्य में शांति और सौहार्द का वातावरण था , वैसे ही राज्य की कल्पना हम इस समाज से करते हैं।

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply