दसो दिशाओ मे जायें दल बादल से छा जाये
उमड घुमड कर हर धरती पर नंदनवन सा लेहरयें ॥ध्रु॥

ये मत समझो किसी क्षेत्र को खाली रह जाने देंगे
दानवता की बेल विशैली कही नही छाने देंगे
जहाँ कही लूझुलसाती अम्रुत रिमझिम बरसाये ॥१॥

फूल सुकोमल खेती पर हम बिजली नही गिराते है
किंतु अडीले बालु टीले वर्षा मे ढह जाते है
ध्वंस हमारा काम नही अविरल जीवन सरसाये ॥२॥

मानव जीवन की स्वतंत्रता नष्ट नही होने पाये
यंत्र व्यवस्था ह्रुदयहीन मे स्वत्व नही खोने पाये
जीवनस्तर का अर्थ न हम भोग डगर मे भरमाये ॥३॥

देश देश के जीवन दर्शन अनुभव कहता पूर्ण नही
आदिस्रिष्टि से हिन्दु धर्म की पूर्ण धर्म उपलब्धि रहि
ग्यान किरण फिर प्रकटाये शांती व्यवस्था समझाये ॥४॥

daso diśāo me jāyeṁ dala bādala se chā jāye
umaḍa ghumaḍa kara hara dharatī para naṁdanavana sā leharayeṁ ||dhru||

ye mata samajho kisī kṣetra ko khālī raha jāne deṁge
dānavatā kī bela viśailī kahī nahī chāne deṁge
jahā kahī lūjhulasātī amruta rimajhima barasāye ||1||

phūla sukomala khetī para hama bijalī nahī girāte hai
kiṁtu aḍīle bālu ṭīle varṣā me ḍhaha jāte hai
dhvaṁsa hamārā kāma nahī avirala jīvana sarasāye ||2||

mānava jīvana kī svataṁtratā naṣṭa nahī hone pāye
yaṁtra vyavasthā hrudayahīna me svatva nahī khone pāye
jīvanastara kā artha na hama bhoga ḍagara me bharamāye ||3||

deśa deśa ke jīvana darśana anubhava kahatā pūrṇa nahī
ādisriṣṭi se hindu dharma kī pūrṇa dharma upalabdhi rahi
gyāna kiraṇa phira prakaṭāye śāṁtī vyavasthā samajhāye ||4||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply