ध्येय मन्दिर की दिशा में पग सदा बढ़ते रहें।
ह्नदय में तव स्मृति लता नित पल्लवित होती रहें।

कृपा से हमको मिले गति मति सहित द्युति आपकी
कष्ट में सुख में सदा आ बसी हो छवि आपकी।
ध्येय निष्ठा ह्नदय उर में पथिक बस चलता रहे ॥१॥

देखकर चहुँ ओर दुःख दारिद्रय भीषण आपदा।
द्रवित होकर आपने फिर त्याग दी सब सम्पदा।
दंभ मोह हताश होकर आपको लखते रहे ॥२॥

शत युगों में आप जैसा अवतरित व्यक्तित्व पाया
आपके स्मृति कवच ने नित्य ही हमको बढ़ाया।
दृष्टि निश्चय भाव से धृव ध्येय पर केन्द्रिय रहे ॥३॥

धूल के प्रत्येक कण से घोष उठता है महा।
आपका पद-स्पर्श पाया देह धन्य हुई महा।
चरण की गति हो अखण्डित और बढ़ती रहे ॥४॥

English Transliteration:
dhyeya mandira kī diśā meṁ paga sadā baṛhate raheṁ|
hnadaya meṁ tava smṛti latā nita pallavita hotī raheṁ |

kṛpā se hamako mile gati mati sahita dyuti āpakī
kaṣṭa meṁ sukha meṁ sadā ā basī ho chavi āpakī|
dhyeya niṣṭhā hnadaya ura meṁ pathika basa calatā rahe ||1||

dekhakara cahu ora duaḥkha dāridraya bhīṣaṇa āpadā|
dravita hokara āpane phira tyāga dī saba sampadā|
daṁbha moha hatāśa hokara āpako lakhate rahe ||2||

śata yugoṁ meṁ āpa jaisā avatarita vyaktitva pāyā
āpake smṛti kavaca ne nitya hī hamako baṛhāyā|
dṛṣṭi niścaya bhāva se dhṛva dhyeya para kendriya rahe ||3||

dhūla ke pratyeka kaṇa se ghoṣa uṭhatā hai mahā |
āpakā pada-sparśa pāyā deha dhanya huī mahā |
caraṇa kī gati ho akhaṇḍita aura baṛhatī rahe ||4||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply