Fagun Ki Rut Esi Aai Hai Lyrics || फागुन की रुत ऐसी आई है लिरिक्स

फागुन की रुत ऐसी आई है
खाटू में मस्ती छाई है
आये है दीवाने तेरे द्वार
संवारे हमे दर्शन दो

हर गलियों में साँवरे
लग रहे जयकारे है
भगती भाव में डूब के
नाच रहे है सारे है
आके तू भी संग नाच ल
अब करो न नखरे हजार
साँवरे हमे दर्शन दो

किस्मत वालो को ही बाबा
अपने दर पे बुलाता है
श्याम नाम के प्रेम से वो तो
श्याम प्रेमी बन जाता है
हाथो में निशान ओर श्याम
नाम गूंजे है चारो और
संवारे हमे दर्शन दो

भूल न जाना सांवरियां
वनीत की अरदास है
तेरे खाटू की बाबा
बात ही कुछ ख़ास है
दर पे बुलाना हर साल रे
लाये है मन की पुकार
संवारे हमे दर्शन दो

Fagun Ki Rut Esi Aai Hai Lyrics

Fagun Ki Rut Aisi Aai Hai
Khatu Me Masti Chhai Hai
Aaye Hai Deewane Tere Dwaar
Sanware Hame Darshan Do

Har Galiyo Me Sanware
Lag Rahe Jaykare Hai
Bhakti Bhaav Me Doob Ke
Naach Rahe Hai Sare Hai
Aake Tu Bhi Sang Naach Le
Ab Karo Na Nakhre Hazaar
Sanware Hame Darshan Do

Kismat Walo Ko Hi Baba
Apne Dar Pe Bulata Hai
Shyam Naam Ke Prem Se Wo To
Shyam Premi Ban Jata Hai
Haatho Me Nishaan Aur Shyam
Naam Gunje Hai Charo Aur
Sanware Hame Darshan Do

Bhool Na Jana Sanwariya
Vaneet Ki Ardaas Hai
Tere Khatu Ki Baba
Baat Hi Kuch Khaas Hai
Dar Pe Bulana Har Saal Re
Laaye Hai Man Ki Pukaar
Saware Hume Darshan Do

Leave a Reply