Hindu Hindu Hum Bandhu Bandhu | Ekal Geet | हिन्दू हिन्दू हम बन्धु बन्धु। एकल गीत | संघ गीत

हिन्दू – हिन्दू हम बन्धु – बन्धु हैं , बिंदु – बिंदु हम महासिंधु हैं।

हम अक्षयवट तरु विशाल हैं , सत्य सनातन चीर त्रिकाल है।

वैष्णव , शैव , शाक्त , सिख शाखा , बौद्ध , जैन हम विविध प्रशाखा।

हम अनेक में एक हिंदू हैं।

हिन्दू – हिन्दू हम बन्धु – बन्धु हैं , बिंदु – बिंदु हम महासिंधु हैं।।

हम न अवर्ण , सवर्ण कभी हैं , नहीं वैश्य ब्राह्मण क्षत्रिय हैं।

हम न शूद्र हरिजन बनवासी , हम केवल हिंदू अविनाशी।

हम विराट मानव स्वयंभू हैं।

हिन्दू – हिन्दू हम बन्धु – बन्धु हैं , बिंदु – बिंदु हम महासिंधु हैं।।

यहां ना कोई द्रविड़ आर्य है , कोई न आदिम नहीं अनार्य है।

ऊंच-नीच हम नहीं जानते , अगला पिछड़ा नहीं मानते।

हम समग्र निर्दोष इन्दु हैं।

हिन्दू – हिन्दू हम बन्धु – बन्धु हैं , बिंदु – बिंदु हम महासिंधु हैं।।

Leave a Reply