हिन्दु जगे तो विश्व जगेगा मानव का विश्वास जगेगा
भेद भावना तमस ह्टेगा समरसता अमर्त बरसेगा
हिन्दु जगेगा विश्व जगेगाहिन्दु सदा से विश्व बन्धु है जड चेतन अपना माना है
मानव पशु तरु गीरी सरीता में एक ब्रम्ह को पहचाना है
जो चाहे जिस पथ से आये साधक केन्द्र बिंदु पहुचेगा ॥१॥

इसी सत्य को विविध पक्ष से वेदों में हमने गाया था
निकट बिठा कर इसी तत्व को उपनिषदो में समझाया था
मन्दिर मथ गुरुद्वारे जाकर यही ज्ञान सत्संग मिलेगा ॥२॥

हिन्दु धर्म वह सिंधु अटल है जिसमें सब धारा मिलती है
धर्म अर्थ ओर काम मोक्ष की किरणे लहर लहर खिलती है
इसी पुर्ण में पुर्ण जगत का जीवन मधु संपुर्ण फलेगा

इस पावन हिन्दुत्व सुधा की रक्षा प्राणों से करनी है
जग को आर्यशील की शिक्षा निज जीवन से सिखलानी है
द्वेष त्वेष भय सभी हटाने पान्चजन्य फिर से गूंजेगा ॥३॥

hindu jage to viSva jagegaa¸ maanava kaa viSvaasa jagegaa
bhed bhaavanaa tamasa hTegaa¸ samarasataa amart barasegaa
hindu jagegaa viSva jagegaa

hindu sadaa se viSva bandhu hai¸ jaD chetana apanaa maanaa hai
maanava paSu taru gIrI sarItaa meM¸ ek bramh ko pahachaanaa hai
jo chaahe jisa path se aaye¸ saadhak kendr biMdu pahuchegaa ||1||

isI satya ko vividha pakSh se¸ vedoM meM hamane gaayaa thaa
nikaTa biThaa kar isI tatva ko¸ upaniShado meM samaJaayaa thaa
mandir matha gurudvaare jaakar¸ yahI j~Jaan satsaMga milegaa ||2||

hindu dharma vah siMdhu aTala hai¸ jisameM saba dhaaraa milatI hai
dharma arth ora kaama mokSha kI¸ kiraNe lahara lahara khilatI hai
isI purNa meM purNa jagat kaa¸ jIvana madhu saMpurNa phalegaa

isa paavana hindutva sudhaa kI¸ rakShaa praaNoM se karanI hai
jaga ko aaryasheela kI SikShaa¸ nija jeevana se sikhalaanI hai
dveSh tveSh bhaya sabhee haTaane¸ paancajanya phir se gUMjegaa ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply