हिन्दु राष्ट्र की अनंत शक्ति जग रही।
आर्य -देश की स्वदेश-भक्ति जग रही॥

ज्योतिर्मय उषा-काल आ रहा
मोहयुक्त तिमिर जाल जल रहा
वह परानुकरण की मोह -रात्रि ढल रही॥हिन्दु -राष्ट्र की॥

प्रलयंकर यज्ञ जो चल रहा
जन-उर का पाप-कलुष जल रहा
भेदभाव की महान भित्ति गिर रही॥।हिन्दु -राष्ट्र की॥

आत्मज्ञानयम प्रकाश छा रहा
सुप्त सत्व-बल शनैः आ रहा
घोर मनोदास्य से विमुक्ति मिल गई॥।हिन्दु -राष्ट्र की॥

सावधान पाञ्चजन्य बज रहा
सावधान गाण्डीव तन रहा
मदन -दहन की तृतीय दृष्टि तन गई॥।हिन्दु -राष्ट्र की॥

hindu rāṣṭra kī anaṁta śakti jaga rahī |
ārya -deśa kī svadeśa-bhakti jaga rahī ||

jyotirmaya uṣā-kāla ā rahā
mohayukta timira jāla jala rahā
vaha parānukaraṇa kī moha -rātri ḍhala rahī |indu -rāṣṭra kī ||

pralayaṁkara yajña jo cala rahā
jana-ura kā pāpa-kaluṣa jala rahā
bhedabhāva kī mahāna bhitti gira rahī ||indu -rāṣṭra kī ||

ātmajñānayama prakāśa chā rahā
supta satva-bala śanaiaḥ ā rahā
ghora manodāsya se vimukti mila gaī||indu -rāṣṭra kī ||

sāvadhāna pāñcajanya baja rahā
sāvadhāna gāṇḍīva tana rahā
madana -dahana kī tṛtīya dṛṣṭi tana gaī||indu -rāṣṭra kī ||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply