हिन्दुभूमि ये वंदनीय है।
समस्त विश्व में समृध्दि ये बनी रहे॥

मातृभूमि ये पितृ-भूमि ये।
अन्न-वस्त्र से हमें शांति-सौख्य दे।
पंजरस्थ था केशर महा
तोड़-तोड़ श्रृंखला मुक्त हो चला॥

वीर-गर्जना राष्ट्र है ठना।
हिन्दु राष्ट्र का ध्येय देखना॥
संघ कल्पना धर्म भावना।
हिन्दुराष्ट्र की करे विश्व वंदना ॥

hindubhūmi ye vaṁdanīya hai |
samasta viśva meṁ samṛdhdi ye banī rahe ||

mātṛbhūmi ye pitṛ-bhūmi ye |
anna-vastra se hameṁ śāṁti-saukhya de |
paṁjarastha thā keśara mahā
toṛa-toṛa śrṛṁkhalā mukta ho calā ||

vīra-garjanā rāṣṭra hai ṭhanā |
hindu rāṣṭra kā dhyeya dekhanā ||
saṁgha kalpanā dharma bhāvanā |
hindurāṣṭra kī kare viśva vaṁdanā ||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply