जाग उठें हम हिंदू फिर से
विजय ध्वजा फहराने।
अंगड़ाई ले चलें तरुण
माता के कष्ट मिटाने॥

जिनके पुरखे महा यशस्वी
वे फिर क्यों घबराएं।
जिनके सुत अतुलित बलशाली
शौर्य गगन पर छायें।
लेकर शस्त्र शास्त्र को कर में
शत्रु ह्रदय दहलाने॥१॥

हम अगस्त्य बन महा सिंधु को
संजुलि में पी जाएँ।
तीन डगों सृष्टि नाप ले
कालकूट पी जाएँ।
पृथ्वी के हम अमर पुत्र हैं
जग को चले जगाने ॥२॥

हिन्दु भाव को जब जब भूले
आई विपद महान।
भाई छूटे धरती खोई
मिट गये धर्मस्थान।
भूलें छोड़े और गुंजा दें
जय से भरे तराने॥३॥

jāga uṭheṁ hama hiṁdū phira se
vijaya dhvajā phaharāne |
aṁgaṛāī le caleṁ taruṇa
mātā ke kaṣṭa miṭāne ||

jinake purakhe mahā yaśasvī
ve phira kyoṁ ghabarāeṁ |
jinake suta atulita balaśālī
śaurya gagana para chāyeṁ |
lekara śastra śāstra ko kara meṁ
śatru hradaya dahalāne ||1||

hama agastya bana mahā siṁdhu ko
saṁjuli meṁ pī jāe |
tīna ḍagoṁ sṛṣṭi nāpa le
kālakūṭa pī jāe |
pṛthvī ke hama amara putra haiṁ
jaga ko cale jagāne ||2||

hindu bhāva ko jaba jaba bhūle
āī vipada mahāna |
bhāī chūṭe dharatī khoī
miṭa gaye dharmasthāna |
bhūleṁ choṛe aura guṁjā deṁ
jaya se bhare tarāne ||3||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply