मेरे गुरुवर जहाँ आ जाए,
वहाँ लग जाता भक्तों का तांता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये,
वहा खुशियों का मौसम है आता।।

गुरु दर्शन की आस मन लेके,
गुरु दर्शन को जो भी है आता,
मेरे गुरुवर है जब मुस्कुराते,
मन में आनंद आनंद छाता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये,
वहाँ लग जाता भक्तों का तांता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये।।

मेरे गुरुवर है जग से निराले,
आत्म कल्याण करना सिखाये,
वो तो भटके हुए आत्मनो को,
शिव पथ का है राही बनाये,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये,
वहाँ लग जाता भक्तों का तांता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये।।

विद्यासागर जी है पुष्प ऐसे,
ज्ञान अमृत सदा बरसाये,
वो तो सूरज के जैसे चमकते,
भक्त ‘मोहित’ हो जग भुल जाये,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये,
वहाँ लग जाता भक्तों का तांता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये।।

मेरे गुरुवर जहाँ आ जाए,
वहाँ लग जाता भक्तों का तांता,
मेरे गुरुवर जहाँ आ जाये,
वहा खुशियों का मौसम है आता।।

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply