पैदल चलकर मंदिर तेरे,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
तुमसे बढ़कर दुनिया में,
ना देखा कोई और जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
पैदल चलकर मंदिर तेरें,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया।।

तर्ज – तुमसे बढ़कर दुनिया में ना।

क्या खूब बाबा का दर है,
स्वर्ग सा मेवा नगर है,
ऊंची नीची पहाड़ियों में रहता है,
आओ मिलकर नाकोड़ा में,
प्यारा सजा दरबार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
पैदल चलकर मंदिर तेरें,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया।।

कलयुग का बाबा अवतारी,
देव बड़ा चमत्कारी,
भक्तो की विपदा पल में टारी,
देवो में ये देव निराला,
पूजे जिन्हें संसार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
पैदल चलकर मंदिर तेरें,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया।।

भैरव बाबा जग में मशहूर है,
त्रिलोक में बाबा का नूर है,
बाबा भैरव हाजरा हजूर है,
“दिलबर” के दिल से है निकले,
भैरव की जयकार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
पैदल चलकर मंदिर तेरें,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया।।

पैदल चलकर मंदिर तेरे,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
तुमसे बढ़कर दुनिया में,
ना देखा कोई और जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया,
पैदल चलकर मंदिर तेरें,
आये भक्त हजार जुबा पर,
आज भैरव नाम आ गया।।

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply