मेरी भक्ति तू मेरी शक्ति तू,
मैं कुछ भी नही,
प्रभु सब कुछ तू,
है मेरे प्रभु आदि जिनेश्वर,
है प्रभु मेरे आदिनाथ,
पूजा भक्ति हम करेंगे,
मन मे भक्ति भाव लिए।।

तर्ज – हर करम अपना करेंगे।

श्वेताम्बर हो या हो दिगम्बर,
हम जैनी बस जैन है,
हम तो है अनुयायी प्रभु श्री,
आदिनाथ महावीर के,
हम करेंगे खूब भक्ति,
और भजन मन जोड़ के,
पूजा भक्ति हम करेंगे,
मन मे भक्ति भाव लिए।।

हम में है भक्ति हम में ही शक्ति,
हमसे ही कल्याण है,
जैन हम और जैन तुम हो,
महावीर की संतान है,
हम बनेंगे एक शक्ति,
पंथ भेद को छोड़ के,
पूजा भक्ति हम करेंगे,
मन मे भक्ति भाव लिए।।

मेरी भक्ति तू मेरी शक्ति तू,
मैं कुछ भी नही,
प्रभु सब कुछ तू,
है मेरे प्रभु आदि जिनेश्वर,
है प्रभु मेरे आदिनाथ,
पूजा भक्ति हम करेंगे,
मन मे भक्ति भाव लिए।।

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply