Sadhana Ka Eka Kshana Hu-साधना का एक क्षण हूँ

साधना का एक क्षण हूँ

ज्योति जीवन की जलायें
भव्य स्वप्नों को संजाएँ
बढ़ रहा संघर्ष -पथ पर
दुःखो को भी सुख समझकर
मैं ज्वलित अन्तःकरण हूँ
साधना का एक क्षण हूँ॥१॥

कर रहा निर्माण चिन्तन
आज अन्तर में चिरन्तनः
विश्व में मैं प्राण भरता
ज्योति जीवन की वितरता
क्रांति का बढ़ता चरण हूँ
साधना का एक क्षण हूँ ॥२॥

पथ बना कंटक-बिछौना
मृत्यु है मेरा खिलौना
होम कर सर्वस्व अपना
देखता हूँ मुक्ति सपना
चेतनामय जागरण हूँ
साधना का एक क्षण हूँ॥३॥

sādhanā kā eka kṣaṇa hū

jyoti jīvana kī jalāyeṁ
bhavya svapnoṁ ko saṁjāe
baṛha rahā saṁgharṣa -patha para
duḥkho ko bhī sukha samajhakara
maiṁ jvalita antaḥkaraṇa hū
sādhanā kā eka kṣaṇa hū ||1||

kara rahā nirmāṇa cintana
āja antara meṁ cirantanaḥ
viśva meṁ maiṁ prāṇa bharatā
jyoti jīvana kī vitaratā
krāṁti kā baṛhatā caraṇa hū
sādhanā kā eka kṣaṇa hū ||2||

patha banā kaṁṭaka-bichaunā
mṛtyu hai merā khilaunā
homa kara sarvasva apanā
dekhatā hū mukti sapanā
cetanāmaya jāgaraṇa hū
sādhanā kā eka kṣaṇa hū ||3||

Leave a Reply