Sadhana Path Par Badhe Ham-साधना पथ पर बढ़े हम

साधना पथ पर बढ़े हम
बन्धनों प्रीति कैसी बन्धनों से प्रीति कैसी

हम शलभ जलने चले हैं
अस्तित्व-निज खोने चले हैं
दीप पर जलना हमें है दाह से फिर भीति कैसी॥१॥

सिन्धु से मिलने चले हैं
सर्वस्व निज देने चले हैं
अतल से मिलनी हमें है शून्य तट पर दृष्टि कैसी॥२॥

दीप बन जलना हमें है
विश्व -तम हरना हमें है
ध्येय तिल -तिल जलन का है कालिमा से भीति कैसी॥३॥

बीज बन मिटने चले हैं
वृक्ष सम उगने चले हैं
धर्म-ध्वज का स्तम्भ बनना देह में अनुरक्ति कैसी॥४॥

आधार ही बनना हमें है
नींव में रहना हमें है
ध्येय जब यह बन चुका है कीर्ति में आसक्ति कैसी॥५॥

sādhanā patha para baṛhe hama
bandhanoṁ prīti kaisī bandhanoṁ se prīti kaisī

hama śalabha jalane cale haiṁ
astitva-nija khone cale haiṁ
dīpa para jalanā hameṁ hai dāha se phira bhīti kaisī ||1||

sindhu se milane cale haiṁ
sarvasva nija dene cale haiṁ
atala se milanī hameṁ hai śūnya taṭa para dṛṣṭi kaisī ||2||

dīpa bana jalanā hameṁ hai
viśva -tama haranā hameṁ hai
dhyeya tila -tila jalana kā hai kālimā se bhīti kaisī ||3||

bīja bana miṭane cale haiṁ
vṛkṣa sama ugane cale haiṁ
dharma-dhvaja kā stambha bananā deha meṁ anurakti kaisī ||4||

ādhāra hī bananā hameṁ hai
nīṁva meṁ rahanā hameṁ hai
dhyeya jaba yaha bana cukā hai kīrti meṁ āsakti kaisī ||5||

Leave a Reply