शुद्ध सात्विक प्रेम अपने कार्य का आधार है ॥धृ॥

प्रेम जो केवल समर्पण भाव को ही जानत है
और उसमे ही स्वयम् की धन्यता बस मानता है
दिव्य ऐसे प्रेम मे ईश्वर स्वयम् साकार है ॥१॥

विश्व जननी ने किया वात्सल्य से पालन हमारा
है कृपा इसकी मिला है प्राण तन जीवन हमारा
भक्ति से हम हो समर्पित बस यही अधिकार है ॥२॥

जाती भाषा प्रान्त आदी वर्ग भेदों को मिटाने
दूर अर्थाभाव करने तम अविद्या को हटाने
नित्य ज्योतिर्मय हमारा हृदय स्नेहागार है ॥३॥

कोटि आँखो से निरन्तर आज आँसू बह रहे है
आज अनगिन बन्धु दुःसह यातनाए सह रहे है
दुख हरे सुख दे सभी को एक यह आचार है ॥४॥

English Transliteration:
śuddha sātvika prema apane kārya kā ādhāra hai ||dhṛ||

prema jo kevala samarpaṇa bhāva ko hī jānata hai
aura usame hī svayam kī dhanyatā basa mānatā hai
divya aise prema me īśvara svayam sākāra hai ||1||

viśva jananī ne kiyā vātsalya se pālana hamārā
hai kṛpā isakī milā hai prāṇa tana jīvana hamārā
bhakti se hama ho samarpita basa yahī adhikāra hai ||2||

jātī bhāṣā prānta ādī varga bhedoṁ ko miṭāne
dūra arthābhāva karane tama avidyā ko haṭāne
nitya jyotirmaya hamārā hṛdaya snehāgāra hai ||3||

koṭi ākho se nirantara āja āsū baha rahe hai
āja anagina bandhu duaḥsaha yātanāe saha rahe hai
dukha hare sukha de sabhī ko eka yaha ācāra hai ||4||

, , , , , , , , , , , ,

मैं एक पत्नी होने के साथ साथ गृहिणी एवं माँ भी हुँ । लिखने का हुनर... ब्लॉग लिखती रहती हु... सनातन ग्रुप एक सकारात्मक ऊर्जा, आत्मनिर्भर बनाने की प्रेरणा देती जीवनी, राष्ट्रभक्ति गीत एवं कविताओं की माला पिरोया है । आग्रह :आपको पसन्द आये तो ऊर्जा देने के लिए शेयर एवं अपने सुझाव दीजिए ।

शालू सिंह

🙏 सकारात्मक जानकारी को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें 👇

Leave a Reply