Shunya Patha Par Badha Rahi thi-शून्य पथ पर बढ़ रही

शून्य पथ पर बढ़ रही थी देश की उठती जवानी।
शून्य में लय हो रही थी राष्ट्र जीवन की कहानी

तेज प्रगटा था उसी क्षण
धर्म आया द्रवित होकर –
सम्पर्क अमृत को पिलाकर
शक्ति का नव सृजन करने-
ध्येय आया देह लेकर॥१॥

विषमता में एकता का सूत्र खण्डित हो रहा था
दिव्याधिष्ठित राष्ट्र-जीवन शक्ति का क्षय हो रहा था
संस्कृति का स्नेह प्रगटा
धर्म आया द्रवित होकर-
सम्पर्क अमृत को पिलाकर
शक्ति का नव सृजन करने-
ध्येय आया देह लेकर॥२॥

परकीय जीवन की लहर में बह रहा था देश अपना
आत्म-विस्मृति के भंवर में हत-बल हु था देश अपना
विश्व प्रगटा था उसी क्षण
धर्म आया द्रवित होकर-
सम्पर्क अमृत को पिलाकर
शक्ति का नव सृजन करने
ध्येय आया देह लेकर॥३॥

śūnya patha para baṛha rahī thī deśa kī uṭhatī javānī|
śūnya meṁ laya ho rahī thī rāṣṭra jīvana kī kahānī

teja pragaṭā thā usī kṣaṇa
dharma āyā dravita hokara –
samparka amṛta ko pilākara
śakti kā nava sṛjana karane-
dhyeya āyā deha lekara ||1||

viṣamatā meṁ ekatā kā sūtra khaṇḍita ho rahā thā
divyādhiṣṭhita rāṣṭra-jīvana śakti kā kṣaya ho rahā thā
saṁskṛti kā sneha pragaṭā
dharma āyā dravita hokara-
samparka amṛta ko pilākara
śakti kā nava sṛjana karane-
dhyeya āyā deha lekara ||2||

parakīya jīvana kī lahara meṁ baha rahā thā deśa apanā
ātma-vismṛti ke bhaṁvara meṁ hata-bala huā thā deśa apanā
viśva pragaṭā thā usī kṣaṇa
dharma āyā dravita hokara-
samparka amṛta ko pilākara
śakti kā nava sṛjana karane
dhyeya āyā deha lekara ||3||

Leave a Reply