Swatantrata Ko Sarthak Karane-स्वतंत्रता को सार्थक करने

स्वतंत्रता को सार्थक करने शक्ति का आधार चाहिए।
भक्ति का आधार चाहिए॥

स्वर्गगंगा भी अरे भगीरथ
यत्नो से भूतल पर आती।
किन्तु शीश पर धारण करने
शिवशंकर की शक्ति चाहिए॥१॥

अमृत को भी लज्जित करती
समर्थ होकर प्राकृत वाणी
उन्मेषित करने सौरभ को
तुलसी की रे भक्ति चाहिए॥२॥

शीश कटाकर देह लड़ी थी
कौंडाणा पर गाज गिरी थी
कण-कण में चेतनता भरने
छत्रपती की स्फूर्ति चाहिए॥३॥

हिमगिरि शिखरों के कन्दर में
घुसे पड़े जो नाग भूमि में
उन सर्पों का मर्दन करने
कालियान्त की नीति चाहिए॥४॥

svataṁtratā ko sārthaka karane śakti kā ādhāra cāhie |
bhakti kā ādhāra cāhie ||

svargagaṁgā bhī are bhagīratha
yatno se bhūtala para ātī |
kintu śīśa para dhāraṇa karane
śivaśaṁkara kī śakti cāhie ||1||

amṛta ko bhī lajjita karatī
samartha hokara prākṛta vāṇī
unmeṣita karane saurabha ko
tulasī kī re bhakti cāhie ||2||

śīśa kaṭākara deha laṛī thī
kauṁḍāṇā para gāja girī thī
kaṇa-kaṇa meṁ cetanatā bharane
chatrapatī kī sphūrti cāhie ||3||

himagiri śikharoṁ ke kandara meṁ
ghuse paṛe jo nāga bhūmi meṁ
una sarpoṁ kā mardana karane
kāliyānta kī nīti cāhie ||4||

Leave a Reply