Teri Godi Me Jo Sukh Hai-तेरी गोदी में जो सुख है माँ

तेरी गोदी में जो सुख है माँ
सारे जग में कहीं नहीं।
आकर्षित कर सकते हमको
ये चाँद सितारे कहीं नहीं॥

तेरी सेवा में रत होकर
काँटों का पथ भी प्यारा।
कस्तुरी बन बसी ह्रदय में
रखो ज्ञान का उजियारा॥
झुठे जग की मृग तृष्णाएँ
बुध्दि बिसारें कहीं नहीं ॥१॥

तेरे पथ की धूल तप्त भी
अमृत घट सी शीतल है।
सागर के लहरों की छाती
ध्येय मार्ग का सम्बल है।
तेरा क्षितिज असीम निरंतर
लगे किनारे कहीं नहीं॥२॥

अपने में विश्वास रखें माँ
अविचल श्रध्दा का वर दो
प्रभु का पायें अभय हस्त हम
शूल -शौर्य सिंचित कर दो।
तेरे सुत तेरे अनुचर माँ
हाथ पसारें कहीं नहीं॥३॥

अजेय बल दो युक्ति बुध्दि दो
दूरदर्शिता का शुभ दर्शन।
कौशल दो व्यवहार-मार्ग में
धैर्य शौर्य उत्साह चिरंतन।
वैभव की चोटी तक निष्ठा
पथ में हारे कहीं नहीं॥४॥

terī godī meṁ jo sukha hai mā
sāre jaga meṁ kahīṁ nahīṁ |
ākarṣita kara sakate hamako
ye cāda sitāre kahīṁ nahīṁ ||

terī sevā meṁ rata hokara
kāṭoṁ kā patha bhī pyārā |
kasturī bana basī hradaya meṁ
rakho jñāna kā ujiyārā ||
jhuṭhe jaga kī mṛga tṛṣṇāe
budhdi bisāreṁ kahīṁ nahīṁ ||1||

tere patha kī dhūla tapta bhī
amṛta ghaṭa sī śītala hai |
sāgara ke laharoṁ kī chātī
dhyeya mārga kā sambala hai |
terā kṣitija asīma niraṁtara
lage kināre kahīṁ nahīṁ ||2||

apane meṁ viśvāsa rakheṁ mā
avicala śradhdā kā vara do
prabhu kā pāyeṁ abhaya hasta hama
śūla -śaurya siṁcita kara do |
tere suta tere anucara mā
hātha pasāreṁ kahīṁ nahīṁ ||3||

ajeya bala do yukti budhdi do
dūradarśitā kā śubha darśana |
kauśala do vyavahāra-mārga meṁ
dhairya śaurya utsāha ciraṁtana |
vaibhava kī coṭī taka niṣṭhā
patha meṁ hāre kahīṁ nahīṁ ||4||

Leave a Reply