Tumko Hai Shat Bar Naman-तुमको है शत बार नमन्

तुमको है शत बार नमन्
नई सृष्टि के नये विधाता
तुमको है शतबार नमन॥ध्रु ०॥

युग द्रष्टा तेरे चरणों में
अर्पित तन मन धन जीवन॥
तुमने युग को नई सृष्टि दी
नूतन नव परिवेश दिया।
संघ मंत्र गूँजा घर-घर में
जग को शुभ संदेश दिया।
पौरुषा से इतिहास गढ़ गये
राष्ट्र देव का कर चिन्तन।
तुमको है शत बार॥१॥

तुमने मन्थन किया देश हित
भव को नव नवनीत दिया
तन का दीप श्वास की बाती
ज्योतित नन्दा दीप किया।
अगणित दीप जलाये तुमने
माँ का करते नित अर्चन।
तुमको है शत बार॥२॥

हो कर दिया यौवन जीवन
राष्ट्र यज्ञ में समिधा बन
मौन तपस्वी वीरव्रती
आलोक दे गये बन दिनकर॥
हम किरणें हैं दिव्य तेज की
चमकायेंगे धरा गगन।
तुमको है शत बार॥३॥

हिन्दु राष्ट्र संदेश तुम्हारा
घर घर में पहुँचायेंगे॥
ग्राम नगर वन पर्वत ऊपर
भगवा ध्वज लहरायेंगे॥
कोटि कंठ से गूँज उठेगा
भारत वन्दे मातरम्।
तुमको है शत बार॥४॥

tumako hai śata bāra naman
naī sṛṣṭi ke naye vidhātā
tumako hai śatabāra namana ||dhru 0||

yuga draṣṭā tere caraṇoṁ meṁ
arpita tana mana dhana jīvana ||
tumane yuga ko naī sṛṣṭi dī
nūtana nava pariveśa diyā |
saṁgha maṁtra gūjā ghara-ghara meṁ
jaga ko śubha saṁdeśa diyā |
pauruṣā se itihāsa gaṛha gaye
rāṣṭra deva kā kara cintana |
tumako hai śata bāra ||1||

tumane manthana kiyā deśa hita
bhava ko nava navanīta diyā
tana kā dīpa śvāsa kī bātī
jyotita nandā dīpa kiyā|
agaṇita dīpa jalāye tumane
mā kā karate nita arcana |
tumako hai śata bāra ||2||

ho kara diyā yauvana jīvana
rāṣṭra yajña meṁ samidhā bana
mauna tapasvī vīravratī
āloka de gaye bana dinakara ||
hama kiraṇeṁ haiṁ divya teja kī
camakāyeṁge dharā gagana |
tumako hai śata bāra ||3||

hindu rāṣṭra saṁdeśa tumhārā
ghara ghara meṁ pahucāyeṁge ||
grāma nagara vana parvata ūpara
bhagavā dhvaja laharāyeṁge ||
koṭi kaṁṭha se gūja uṭhegā
bhārata vande mātaram |
tumako hai śata bāra ||4||

Leave a Reply