Tum Vir Shiva ke Vanshaj Ho-तुम वीर शिवा के वंशज हो

तुम वीर शिवा के वंशज हो
फिर रोष तुम्हारा कहाँ गया।
बोलो राणा की सन्तानों
वह जोश तुम्हारा कहाँ गया॥

ओ वीर तुम्हारे कदमों से
सारी धरती थर्राती थी
सागर का दिल हिल जाता था
पर्वत की धड़कती छाती थी
अब चाल में सुस्ती कैसी है
क्यों पाँव हैं डगमग डोल रहे।
कुछ करके नहीं दिखाते हो
केवल अब मुँह से बोल रहे
दुश्मन को मार गिराने का
आक्रोश तुम्हारा कहाँ गया॥१॥

जाकर देखो सीमाओं पर
जो आज कुठाराघात हुआ।
जाकर देखो भारता माँ के
माथे पर जो आघात हुआ।
गर अब भी खून न खोला तो
गर अब भी जाग न पाये हो।
मुझको विश्वास नहीं आता
तुम भारत माँ के जाये हो।
दुनिया को दिव्य दृष्टि देते
वह होश तुम्हारा कहाँ गया॥२॥

आँखों की मस्ती दूर करो
यह संकट में कैसा प्रमाद।
टक्कर से तोड़ो रोड़ों को
अब बन्द करो झूठा प्रमाद।
गर तुमको कुछ करना ही है
तो फिर दुश्मन का अन्त करो।
या तो स्वदेश पर मिट जाओ
या भारत माँ के लिये जियो।
दुश्मन की फौज दहल उठे
वह रोब तुम्हारा कहाँ गया॥३॥

हे वीरों तुम हो महाकाल
काल जो आये डरना क्या
जब चला सिपाही लड़ने को
तो जीना क्या और मरना क्या
मर मिट भी गये इतिहासों में
तो जीना क्या और मरना क्या
मर मिट भी गये इतिहासों में
तो नाम अमर हो जायेगा।
जीवित रहने पर हर मानव
श्रध्दा से शीश झुकायेगा।
माटी का हर कण पूछ रहा
वह होश तुम्हारा कहाँगया॥४॥

tuma vīra śivā ke vaṁśaja ho
phira roṣa tumhārā kahā gayā |
bolo rāṇā kī santānoṁ
vaha jośa tumhārā kahā gayā ||

o vīra tumhāre kadamoṁ se
sārī dharatī tharrātī thī
sāgara kā dila hila jātā thā
parvata kī dhaṛakatī chātī thī
aba cāla meṁ sustī kaisī hai
kyoṁ pāva haiṁ ḍagamaga ḍola rahe |
kucha karake nahīṁ dikhāte ho
kevala aba muha se bola rahe
duśmana ko māra girāne kā
ākrośa tumhārā kahā gayā ||1||

jākara dekho sīmāoṁ para
jo āja kuṭhārāghāta huā |
jākara dekho bhāratā mā ke
māthe para jo āghāta huā |
gara aba bhī khūna na kholā to
gara aba bhī jāga na pāye ho |
mujhako viśvāsa nahīṁ ātā
tuma bhārata mā ke jāye ho |
duniyā ko divya dṛṣṭi dete
vaha hośa tumhārā kahā gayā ||2||

ākhoṁ kī mastī dūra karo
yaha saṁkaṭa meṁ kaisā pramāda |
ṭakkara se toṛo roṛoṁ ko
aba banda karo jhūṭhā pramāda |
gara tumako kucha karanā hī hai
to phira duśmana kā anta karo |
yā to svadeśa para miṭa jāo
yā bhārata mā ke liye jiyo |
duśmana kī phauja dahala uṭhe
vaha roba tumhārā kahā gayā ||3||

he vīroṁ tuma ho mahākāla
kāla jo āye ḍaranā kyā
jaba calā sipāhī laṛane ko
to jīnā kyā aura maranā kyā
mara miṭa bhī gaye itihāsoṁ meṁ
to jīnā kyā aura maranā kyā
mara miṭa bhī gaye itihāsoṁ meṁ
to nāma amara ho jāyegā |
jīvita rahane para hara mānava
śradhdā se śīśa jhukāyegā |
māṭī kā hara kaṇa pūcha rahā
vaha hośa tumhārā kahāgayā ||4|

Leave a Reply